लखनऊ का जनआंदोलन और इलाहाबाद हाईकोर्ट का आदेश

लखनऊ का जनआंदोलन और इलाहाबाद हाईकोर्ट का आदेश

देश के अन्य शहरों की तरह नए नागरिकता कानून औऱ एनसीआर के विरोध में महिलाओं का एक आंदोलन लखनऊ शहर में, घन्टाघर पर चल रहा है। यह आंदोलन भी दिल्ली के शाहीनबाग आंदोलन की तर्ज पर है जो किसी एक राजनीतिक दल के आह्वान पर नहीं बल्कि स्वयंस्फूर्त रूप से चल रहा है। इसकी कमान […]

Read More
 यूपी डायरी : पार्ट 2 –  डर की काई से लिपटी सेंट्रो (मुज़फ्फ़रनगर से ग्राउन्ड रिपोर्ट)

यूपी डायरी : पार्ट 2 – डर की काई से लिपटी सेंट्रो (मुज़फ्फ़रनगर से ग्राउन्ड रिपोर्ट)

मुज़फ्फरनगर का सरवट इलाका, मेन सिटी से थोड़ी दूर। यहां एक लाइन से कंस्ट्रक्शन और लकड़ी के सामान से जुड़ी कई दुकान हैं। इसी पंक्ति के बीचोंबीच घर है हामिद हसन का। घर की चौखट में दाखिल होने से पहले ही कानों में आरा मशीन की घरघराहट पड़ती है। घर में दाखिल होते ही दिखता […]

Read More
 कमिश्नर व्यवस्था के बाद कैसा होगा लखनऊ पुलिस का कार्य ?

कमिश्नर व्यवस्था के बाद कैसा होगा लखनऊ पुलिस का कार्य ?

लखनऊ पुलिस पर वैसे भी सबकी नजर रहती है, पर अब और रहेगी। एक तो राजधानी की पुलिस होने के कारण दूसरे नए नए कमिश्नर सिस्टम के अंतर्गत पुलिस कमिश्नर का पद सृजित होने के कारण। लखनऊ पुलिस में नियुक्त कुछ अधिकारियों को यह गुमान रहता है कि वे मुख्यमंत्री और पंचम तल के नज़दीक […]

Read More
 13 जनवरी – राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के ऐतिहासिक उपवास के मौके पर  पुलिस ने रोका

13 जनवरी – राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के ऐतिहासिक उपवास के मौके पर पुलिस ने रोका

लखनऊ, आज दिनांक 13 जनवरी 2020 को राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के जीवन का अंतिम उपवास के दिवस पर, देश में राष्ट्रीय एकता स्थापित करने के लिए याद किया गया। महात्मा गाँधी के इस उपवास में आज प्रोफेसर रुपरेखा वर्मा, प्रोफेसर रमेश दीक्षित के नेत्रित्व में अमीक जामेई ने हज़रत गंज स्थित महात्मा गाँधी की प्रतिमा […]

Read More
  गालियों के साथ साथ कह रहे थे “मुल्ले ले तुझे आज़ादी दे देता हूँ”

 गालियों के साथ साथ कह रहे थे “मुल्ले ले तुझे आज़ादी दे देता हूँ”

देश मे चल रहे हालात ने नींद उड़ा दी है, सिर्फ एक ही बात बार बार सामने जाती है।  आखिर और कितना ? घरो में घुस कर महिलाओ पर हमला आख़िर मासूम बच्चों पर इसका क्या असर पड़ेगा, आखिर बच्चों के दिमाग मे पुलिस की छवि कैसी बनेगी, क्या हमारे वतन का भविष्य उज्वल हो […]

Read More
 19 दिसंबर को अशफाकुल्लाह और बिस्मिल की शहादत को याद करे: अमीक जामेई

19 दिसंबर को अशफाकुल्लाह और बिस्मिल की शहादत को याद करे: अमीक जामेई

लखनऊ: 17 दिसंबर 2019- संसद में नागरिकता संशोधन जिसे कैब के नाम से जाना जा रहा है, जैसे ही यह ससंद में पास हुआ देश में भर इसके खिलाफ आन्दोलन की शुरूआत हो गयी है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सैकड़ो तंजीमो के साथ शहर के बुध्दिजीवी वर्ग, मुस्लिम उलेमा, प्रगतिशील समाज और सामाजिक […]

Read More
 नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ लखनऊ में प्रदर्शन, अब पूरे देश में होगा विरोध

नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ लखनऊ में प्रदर्शन, अब पूरे देश में होगा विरोध

लखनऊ, 5 दिसंबर 2019। रिहाई मंच, एनएपीएम, नागरिक परिषद, इंसानी बिरादरी, ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट, हम सफ़र, सामाजिक न्याय मंच, जन मंच, युवा शक्ति संगठन, पसमांदा मुस्लिम महाज, जमात ए इस्लामी हिन्द, खुदाई खिदमतगार, उत्तर प्रदेश छात्र सभा, मुस्लिम यूथ ब्रदर्स उत्तर प्रदेश, जेआईएच, सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) आदि सामाजिक-राजनीतिक संगठनों ने विवादास्पद नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ लखनऊ में अम्बेडकर प्रतिमा, हजरतगंज पर धरना दिया। संविधान के विपरीत जाकर […]

Read More
 उत्तरप्रदेश में शासन और प्रशासन द्वारा फ़र्ज़ी एनकाउंटर की होती अनदेखी

उत्तरप्रदेश में शासन और प्रशासन द्वारा फ़र्ज़ी एनकाउंटर की होती अनदेखी

बीते कुछ दिनों में आपने देखा होगा कि उत्तर प्रदेश के लखनऊ में एक राह चलती गाड़ी में बैठे बेकसूर लड़के को पुलिस वालों ने गोली मार दी, जिसका नाम था विवेक तिवारी! विवेक की इसमें कोई गलती नहीं थी ना ही वो कोई अपराधी था और ना ही आतंकी, उसकी गलती सिर्फ यह थी […]

Read More
 कल्पना तिवारी की चीत्कार में नौशाद और मुस्तकीम की मां की चीत्कार शामिल क्यों नहीं है?

कल्पना तिवारी की चीत्कार में नौशाद और मुस्तकीम की मां की चीत्कार शामिल क्यों नहीं है?

कल दिल्ली जाते हुए सोशल मीडिया से विवेक तिवारी की हत्या का समाचार मिला। ज्यादा जानकारी लेने के लिए एक अखबार की वेबसाइट पर गया तो वहां जाकर दिमाग सुन्न हो गया। खबर का कमेंट बॉक्स उन लोगों से भरा था, जो हत्या को सही ठहरा रहे थे। सोचने लगा कि ये कौन लोग हैं, […]

Read More
 नज़रिया – हज़रतगंज चौराहा, मुग़लसराय, औरंगजेब रोड का नाम ही क्यों बदला गया?

नज़रिया – हज़रतगंज चौराहा, मुग़लसराय, औरंगजेब रोड का नाम ही क्यों बदला गया?

एक दिन सियासत तुम्हारा नाम निसार से बदलकर नरेश कर देगी और तुम बस लोकतंत्र को बचाते रहना। नाम बदलना कोई छोटी बात नहीं है। ये तुम्हारी विरासत, तुम्हारे आब-ओ-अजदाद की कुर्बानियां, तुम्हारी तारीख़ के साथ सबसे बड़ा हमला है। यक़ीन न हो तो जाके यूरोप में उन शहरों को देख लो कि जहाँ तुम्हारे […]

Read More