मौत के वक्त लिटरेचर के नोबल के लिए नामित हो चुके थे “फ़ैज़”

मौत के वक्त लिटरेचर के नोबल के लिए नामित हो चुके थे “फ़ैज़”

“वो लोग बहुत खुशकिस्मत थे, जो इश्क को काम समझते थे या काम से आशिकी करते थे, हम जीते जी मसरूफ रहे” एक फौजी अफसर, एक पॉलिटिशियन, एक डिप्लोमेट, एक क्रांतिकारी, और उर्दू अरबी का अध्येता, फैज अहमद फैज की मसरूफ जिंदगी का किस्सा स्यालकोट से शुरू होता है। अंग्रेजी में एमए फ़ैज़ , ब्रिटीश […]

Read More
 जब प्रोटोकाल तोड़कर फ़ैज़ से मिले थे अटल बिहारी वाजपेयी

जब प्रोटोकाल तोड़कर फ़ैज़ से मिले थे अटल बिहारी वाजपेयी

बतौर विदेश मंत्री अटल बिहारी बाजपेई पाकिस्तान के आधिकारिक दौरे पर थे।प्रोटोकॉल तोड़ कर फ़ैज़ से मिलने उनके घर गए।सब चकित। दोनों दो तरह से सोचने वाले ।फ़ैज़ भी चकित।मिलने पर वाजपेईजी ने कहा – मैं सिर्फ एक शेर के लिए आप से मिलने आया हूं। और शेर पढ़ा – मक़ाम ‘फ़ैज़’ कोई राह में […]

Read More
 IIT कानपुर में फ़ैज़ की नज़्म ‘हम देखेंगे’ की होगी जांच, क्या ये हिंदू विरोधी है ?

IIT कानपुर में फ़ैज़ की नज़्म ‘हम देखेंगे’ की होगी जांच, क्या ये हिंदू विरोधी है ?

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की अमर नज़्म ‘ हम देखेंगे ‘,  उनके द्वारा जेल में लिखी गयी थी। पाकिस्तान में ज़ियाउलहक़ की तानाशाही के खिलाफ यह फ़ैज़ की बगावत थी। ऐसी बगावतें पहले भी कलम के सिपाहियों ने की है, अब भी कर रहे हैं, और आगे भी करते रहेंगे। यह कोई खास बात नहीं है। […]

Read More