राजद्रोह – 1 – देशद्रोह और राजद्रोह का अंतर आईपीसी के संदर्भ से

राजद्रोह – 1 – देशद्रोह और राजद्रोह का अंतर आईपीसी के संदर्भ से

124 A आइपीसी की धारा अपने अस्तित्व के समय से ही विवादों के घेरे में रही है। इसकी समीक्षा करते समय अक्सर एक तथ्य लोग भूल जाते हैं कि देशद्रोह और राजद्रोह दोनों ही अलग अलग विंदु हैं। देश स्थायी है और राज बदलता रहता है। लोकतांत्रिक व्यवस्था में आज जो अध्यक्ष पीठ के दाहिने […]

Read More
 देशद्रोह कानून की ऐतिहासिकता और जेएनयू मामला

देशद्रोह कानून की ऐतिहासिकता और जेएनयू मामला

संहिताबद्ध कानून अंग्रेज़ो की देन है जो ब्रिटिश न्याय प्रणाली से हमारे देश मे आयी है। प्राचीन भारतीय न्याय प्रणाली और देश के मुस्लिम हुक़ूमत में भी न्याय और विधि व्यवस्था कुछ संहिताबद्ध तो थी, पर ब्रिटिश राज में यह संहिताकरण व्यवस्थित रूप से हुआ जब शासन प्रशासन के लिये विधिवत कानून और उन कानूनों […]

Read More