ग्वालियर के महल की खिड़की से देखिए, राजनीतिक दांव पेंच के 160 साल

ग्वालियर के महल की खिड़की से देखिए, राजनीतिक दांव पेंच के 160 साल

भारत के इतिहास और राजनीतिक दांव पेंच के पिछले 160 बरस अगर आप नजदीक से देखना चाहते हैं, तो ग्वालियर के महल की खिड़की से देखिए। यहां पर शो की फ्रंट सीट लगी है। सब नजदीक से साफ साफ दिखता है। शो 1857 से शुरू होता है।तब तक लुटेरी कम्पनी सरकार ने, दीवानी पर कब्जे […]

Read More
 घिनौनी राजनीति कर रही है भाजपा – राहुल गांधी

घिनौनी राजनीति कर रही है भाजपा – राहुल गांधी

सिंगापुर – कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सिंगापुर के दौरे में हैं, जहाँ पर वो अलग-अलग क्षेत्र में काम कर रहे भारतीय समुदाय के लोगों से भी मुलाक़ात कर रहे हैं. उनके इन विदेशी दौरों के कई मायने निकाले जा रहे हैं. कुछ लोगों का कहना है, कि इन दौरों के ज़रिये राहुल गांधी विदेशों में […]

Read More
 नज़रिया – जनता को बेवकूफ़ बनाती हैं राजनीतिक पार्टियां

नज़रिया – जनता को बेवकूफ़ बनाती हैं राजनीतिक पार्टियां

हमारे संविधान में दिए गए प्रावधानों के अनुसार, हमें पांच साल बाद चुनाव कराने होते हैं। 1952 से इस रिहर्सल का बार-बार दोहराया गया है। राजनीतिक लोग आपस में सहयोगी व एक ही सोच के हैं। उन्होंने राजनीति जिसको कभी समाज सेवा का रूप माना जाता था, को अपना व्यवसाय, पार्टी व टीम बना एक […]

Read More
 सत्ता के मुहाने पहुंचकर, गुजरात क्यों हारी कांग्रेस?

सत्ता के मुहाने पहुंचकर, गुजरात क्यों हारी कांग्रेस?

कई सवालों और कई जवाबों के साथ गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की जीत हमारे सामने है. इस बात से कोई इंकार नहीं है की भाजपा के लिए तमाम विपरीत समीकरणों के होते हुए भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता ने दोनों प्रदेशों में पार्टी को बहुत फायदा पहुँचाया है. जनतंत्र में […]

Read More
 नेता बोल रहे हैं, जनता की कोई नहीं सुन रहा – रविश कुमार

नेता बोल रहे हैं, जनता की कोई नहीं सुन रहा – रविश कुमार

सुशील मोदी ने गुंडा लोगों से फोन करवाया कि पूर्व स्वास्थ्य मंत्री से बात करनी है तो मैंने कहा कि बोलिए बोल रहे हैं। फिर बोला कि मेरा लड़का है उत्कर्ष मोदी उसकी शादी है। बियाह में बुला रहा है, बेइज्ज़त कर रहा है। बियाह में जाएंगे तो वहीं पोल खोल देंगे जनता के बीच […]

Read More
 क्या मुस्लिम सियासी मुहब्बत और सियासी नफ़रत से बाहर आयेंगे ?

क्या मुस्लिम सियासी मुहब्बत और सियासी नफ़रत से बाहर आयेंगे ?

मौलाना आज़ाद ने क्या किया, क्या नहीं किया और वह क्या और कर सकते थे, इस पर खूब बहस हो सकती है. नेहरू को भी हम सुक़ूत-हैदराबाद जो होम मिनिस्टर पटेल के दौर में हुआ और उस क़त्ल आम, उसके लिए उन पर ऊँगली उठाते हैं. लेकिन ये भी सच है कि मौलाना आज़ाद की […]

Read More
 दुर्घटनाओं पर संवेदनहीन हुक्मराँ…

दुर्घटनाओं पर संवेदनहीन हुक्मराँ…

विभिन्न रेल दुर्घटनाओं से लेकर हाल की NTPC में घटित ब्वायलर फटने की घटना तक हमारे देश और प्रदेश की हुकूमत में बैठे लोग संवेदनहीनता की हदें पार करने में लगे हुए हैं. रायबरेली में ऊँचाहार स्थित NTPC में घटित घटना में मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री का जो चेहरा सामने आया वह न सिर्फ़ संवेदनहीन […]

Read More