क्राईम

ज़मीन के नीचे मिले एक ही परिवार के 5 आदिवासियों के नरकंकाल

ज़मीन के नीचे मिले एक ही परिवार के 5 आदिवासियों के नरकंकाल

बीते मंगलवार मध्य प्रदेश के देवास जिले के नेमावर गांव में ज़मीन से पांच लोगों के कंकाल मिलने के बाद से पूरे गांव में डर का माहौल बन गया है,ये पांचों कंकाल एक ही परिवार के हैं जिनमे एक महिला,एक नर और तीन युवतियां हैं।पांचों शवो को एक खेत मे 8 से 10 फीट नीचे दफनाया गया था।इतना ही नहीं शव जल्दी गल जाएं इसलिए पांचों शवो पर नमक और यूरिया भी डाला गया था।

पुलिस के मुताबिक पांचों नरकंकाल एक ही परिवार के है जो आदिवासी समुदाय से संबंध रखता है।गांव वालों के मुताबिक पूरा परिवार 13 मई की रात से लापता था जिसके बाद पुलिस ने लगभग 48 दिन बाद पूरे परिवार के नरकंकाल गांव के एक खेत से बरामद किए।

प्रेम प्रसंग में दिया हत्याकांड को अंजाम

नेमावर हत्याकांड के पीछे की वजह को प्रेम प्रसंग बताया जा रहा है।दरअसल,मामला ये है कि जिस परिवार की हत्या हुई है उसमें रुपाली नाम की युवती का सुरेंद्र राजपूत से प्रेम प्रसंग की बात कही जा रही है जिसके चलते रुपाली,सुरेन्द पर शादी का दबाव बना रही थी।

केसरिया हिन्दू नामक संगठन का अध्यक्ष हत्यारा सुरेंद्र राजपूत ( नीली शर्ट में)

सुरेन्द की शादी कहीं ओर तय होने का पता जब रुपाली को चला तो उसने उस लड़की का नंबर और फ़ोटो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।जिसके बाद सुरेंद्र राजपूत गुस्से से तिलमिला उठा और रुपाली के पूरे परिवार को मारने का प्लान बना लिया।

आरोपी के खेत से मिले परिवार के पांचों नरकंकाल

पुलिस के मुताबिक आरोपी सुरेन्द ने अपने भाई वीरेंद्र दो दोस्त और खेत मे काम करने वाले दो नोकरो के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया।पहले रुपाली के भाई पवन (14) को फोन करके खेतों पर बुलाया जिसके बाद परिवार की चारो महिलाओं को वहां बुलाया गया .

जिनमे ममता बाई कास्ते (45),रुपाली(21), पूजा(15),और दिव्या (14) शामिल थी।आरोपी ने अपने साथियों के साथ मिलकर पहले पांचों लोगो की हत्या की और बाद में उसी खेत मे जेसीबी की मदद से शवो को 8 फीट नीचे गाड़ दिया।

युवतियों के साथ रेप होने की आशंका:

न्यूज़ 18 की एक रिपोर्ट के अनुसार गड्ढे से मिले कंकालों में से तीनों युवतियों रुपाली,पूजा और दिव्या के कंकाल बिना कपड़ों के पाए गए हैं।जिससे आशंका ये लगाई जा रही है कि हत्या से पहले तीनो के साथ रेप किया गया या करने की कोशिश की गई है।

मामले के सामने आने के बाद 2 जुलाई से ट्विटर पर #नेमावर हत्यारो को फांसी दो ट्रेंड होने लगा,बता दें ट्वीट में सुरेन्द को भाजपा का नेता बताया जा रहा है।आरोपी सुरेन्द और उसके साथियों के लिए सख़्त सज़ा की मांग की जा रही है।

इतना ही नहीं मृतक परिवार आदिवासी समाज से ताल्लुक रखता था इसलिए आदिवासी समाज न केवल आरोपियों का विरोध कर रहा है बल्कि जगह जगह प्रदर्शन भी कर रहा है।

सीएम शिवराज ने कड़ी कार्यवाही के आदेश दिए:

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने घटना को जघन्य अपराध बताते हुए घटना के प्रति दुख जताया है साथ ही फ़ास्ट ट्रेक कोर्ट में मामले की सुनवाई के आदेश दिए हैं।सीएम ने आगे कहा कि अपराधियों को बक्शा नहीं जाएगा उन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी।वहीं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी इस मामले में सीबीआई जांच की मांग करते हुए ट्वीट किया है।

आरोपियों के मकान-दुकान को जेसीबी से ढहाया

मामले की पूरी जांच एसपी शिव दयाल और देवास के कलेक्टर चंद्रमौली शुक्ला के नेतृत्व में कई जा रही है।बीते शुक्रवार जांच में पाया गया कि कृत्य में शामिल आरोपी सुरेन्द की साढ़े चार हज़ार वर्ग फीट पर बनी दुकान और मकान अवैध है।जिसके बाद इन्हें जेसीबी की मदद से गिर दिया गया।साथ ही आरोपी विवेक के मकान को भी ढहा दिया गया।

पुलिस की जांच के मुताबिक आरोपियों ने पुलिस को गुमराह करने की पूरी कोशिश की जिसके तहत मृतक रुपाली के फोन को आरोपियों द्वारा एक्टिव रखा गया ताकि सबको लगे कि रुपाली और उसका पूरा परिवार ज़िंदा और खुश है।

लेकिन पुलिस ने फ़ोन को ट्रैक कर सातवे आरोपी राकेश को भी धर दबोचा। आरोपी सुरेन्द,राकेश और करण को 3 जुलाई तक पुलिस रिमांड पर भेजा गया वहीं विवेक,राजकुमार,मनोज और वीरेंद्र को जेल भेज दिया गया था।

About Author

Sushma Tomar