October 20, 2021

तालिबान हुकूमत जिसने पूरे अफगानिस्तान पर अपना शिकंजा कस लिया है। पिछले दिनों पूरे विश्व में अनेक वीडियो और तस्वीरें भी वायरल हुई। जिसमें अफगानिस्तान के लोग अपने देश को छोड़ने पर मजबूर थे। हाल ही में आईपीएल को भी इस्लामिक विरोधी बता कर अफगानिस्तान में आईपीएल को बैन कर दिया गया है। 

यूएई (UAE)  में हो रहे आईपीएल (IPL) बीते दिन रविवार 19 सितंबर से प्रारंभ हो चुके हैं। कल पहला मैच चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) और मुंबई इंडियंस (MI) के बीच खेला गया। जिसमें चेन्नई सुपर किंग्स ने पहली जीत को अपने नाम कर लिया है।

पूरी दुनिया जहां आईपीएल के शुरू होने का इंतजार कर रही थी। वहीं दूसरी ओर अफगानिस्तान में आईपीएल को गैर इस्लामिक बताते हुए आईपीएल के प्रसारण पर बैन लगा दिया है। यह सब तालिबान के नए नियम और कानून के तहत किया गया है।

शूरू हो चुका है आईपीएल

दुबई स्टेडियम में 19 सितंबर रविवार को खेले गए आईपीएल मैच में चेन्नई सुपर किंग्स ने 20 रन से हराकर पॉइंट्स टेबल पर नंबर वन में पोजीशन कर ली है। जिससे सुपर किंग्स जीत के बाद रन रेट भी काफी बढ़ गया है। सुपर किंग्स के पास 12 पॉइंट्स है।

सुपर किंग्स ने सबसे पहले टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने का ही फैसला लिया था।चेन्नई टीम शुरुआती समय में ज्यादा अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई थी। पर बाद में 6 विकेट खोने के बावजूद 20 ओवर में 156 रन की अच्छी पारी के साथ चेन्नई सुपर किंग्स ने जीत हासिल की है। जिसमें महत्वपूर्ण योगदान शानदार बल्लेबाज ऋतुराज और ब्रावो की तूफान वाली पारी ने मैच के रुख को पलट कर रख दिया।

जवाब में मुंबई 20 ओवर में 8 विकेट पर 136 रन ही बना सकी। यह पहली बार हुआ है, जब चेन्नई ने मुंबई को 160 से कम का लक्ष्य दिया और उसे बचा भी लिया।  इससे पहले पांच मौकों पर उसे हार का सामना करना पड़ा था। 

31 मैचों के साथ आईपीएल और भी रोमांचक होने वाला है। इसी के साथ भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने यूएई में हो रहे आईपीएल फेज-2 में कुछ शर्तों के साथ आईपीएल के प्रशंसकों के लिए स्टेडियम के दरवाजों को खोल दिया गया है।

लड़कियां नाचती हैं इसलिए गैर-इस्लामिक है आईपीएल

अफगानिस्तान हुकूमत में आईपीएल देखना भी बैन है। तालिबानी बताते हैं कि आईपीएल का कंटेंट इस्लाम विरोधी है । इसमें चीयर गर्ल्स आती है जोकि खुले बाल में डांस करती है। जो इस्लाम के बिल्कुल विरुद्ध है। स्टेडियम में भी बहुत-सी महिलाएं इस मैच को देखने के लिए  बेपर्दा होकर आएंगी ।

तालिबानियों का कहना है कि वह अफगानिस्तान में कोई भी गलत संदेश नहींं पहुंचाना चाहते है। तालिबान के बनाए कानून और नियम लागू हो चुके हैं। इसलिए आईपीएल का प्रसारण नहीं किया जाएगा। अफगानिस्तान की जनता अब आईपीएल का लुत्फ नहीं उठा सकेगी। यही नहीं, तालिबान ने बताया है कि आईपीएल नेशनल टीवी के साथ रेडियो पर प्रसारित नहीं किया जाएगा। 

तालिबानी क्रिकेट के समर्थक हैं। क्योंकि क्रिकेट टीम में पुरुष पूरे कपड़ों में होते हैं। लेकिन फुटबॉल, हॉकी जैसे खेलों के खिलाफ है। क्योंकि इसमें पुरुष और स्त्री शॉर्ट्स में खेलते हैं जिसकी इजाजत इस्लाम में नहीं है। अफगानिस्तान की क्रिकेट महिला खिलाड़ी टीम पर अभी तक कोई भी टिप्पणी नहीं आई है।

कुछ दिनों पहले अफगानिस्तान के संस्कृति विभाग के अहमदुल्लाह वासिक फिलहाल उप-प्रमुख है। उन्होंने एक बयान में कहा था, इस्लाम और इस्लामिक अमीरात महिलाओं को क्रिकेट के साथ ऐसे खेल जिनमें उनका शरीर दिखे उन्हें खेलने की अनुमति नहीं देता है। ये मीडिया का युग है। जिसकी वजह से फोटो और वीडियो लोगों तक आसानी से पहुंच जाते हैं और लोग उसे देखेंगे।

लड़कियों को खेल में जाने की जरूरत नहीं। वे अपने आप को छुपा नहीं पाएंगे और साथ ही उस ड्रेस कोड का भी ध्यान नहीं रख पाएंगी। इस्लाम इसकी इजाजत नहीं देता है अपने धर्म के लिए हमने बहुत लंबी लड़ाई लड़ी है। ताकि इस्लाम का पालन हो सके और इसके लिए अगर हमें चुनौतियों और मुश्किलों से भी जूझना पड़े तो वो भी हमें स्वीकार है। हम कभी भी इस्लामिक मूल्यों को  नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं।

यह भी बता दें की यूएई में हो रहे आईपीएल मैच में अफगानिस्तान के स्टार खिलाड़ी राशिद खान सनराइजर्स हैदराबाद के अहम गेंदबाज है। अफगानिस्तान को अपने स्टार को देखने का भी मौका नहीं मिलेगा। राशिद खान और मोहम्मद नबी जैसे स्टार खिलाड़ियों का आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन रहा है। लेकिन अफगानिस्तान में तालिबानी कब्जे के समय से ही यह दोनों देश से बाहर हैं। फिलहाल ये दोनों खिलाड़ी यूएई में है।

About Author

Nidhi Arya