मेरठ के लिसाड़ी गांव के करीब 100 परिवारों ने पलायन का ऐलान किया है और अपने मकान बेचने के पोस्टर लगा दिए हैं.

मेरठ के लिसाड़ी गांव के कई लोगों ने प्रशासन पर एकतरफा कर्रवाई का आरोप लगाते हुए गांव से पलायन करने का ऐलान कर दिया है. लोगों ने बाकायदा अपने घरों के बाहर पलायन और मकान बिकाऊ के पोस्टर लगा दिए हैं.

पलायन की बात से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है.दरअसल मेरठ में गांव लिसाड़ी में दो सम्प्रदाय के लोगों के बीच 21 जून को बाइक की टक्कर को लेकर विवाद हुआ था. लोगों का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में एक पक्ष के दो लोगों पर कार्यवाही करते हुए जेल भेज दिया और दूसरे पक्ष को थाने से ही छोड़ दिया.

पुलिस की इस एकतरफ़ा करवाई से परेशान दूसरे पक्ष के लोगों ने अपने घरों के बाहर “ये मकान बिकाऊ है, यहां छोटी-छोटी बातों पर साप्रदायिक विवाद बनते हैं”, के पोस्टर चस्पा कर दिये और गांव के करीब 100 से अधिक घरों ने यहां से पलायन करने का फैसला कर लिया है.

इनकी पुलिस प्रशासन से मांग की है या तो वो उनके यह मकान खरीद ले या दूसरे सम्प्रदाय के लोग उनके मकान खरीद लें ताकि यह लोग कहीं और जाकर शांति से रह सकें.