पिछले कुछ वर्षों से मोबाइल इंडस्ट्री के क्षेत्र में भारत ने काफ़ी उन्नति की है.प्रतिवर्ष मोबाइल फोन यूज़र्स की बढ़ती संख्या से भारत अब मोबाइल इंडस्ट्री के लिए अमेरिका और चीन के बाद दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा मार्केट बन गया हैं.वह दिन दूर नही जब भारत इन देशों को भी पीछे छोड़ देगा.
भारत में जब से मोबाइल फोन और उसमें सिम कार्ड का सिस्टम आया हैं तब से यहाँ मोबाइल नंबर के अंको की संख्या 10 ही रही हैं. लेकिन जिस तरह से मोबाइल धारको की संख्या बढ़ रही है, अब इन 10 अंको में नए सिम नंबर बनाना मुश्किल होने लगा हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय संचार मंत्रालय ने सभी मोबाइल नंबर को 13 अंको का करने का अहम निर्णय लिया हैं.1 जुलाई 2018 के बाद आप नया मोबाइल नंबर ले रहे हैं तो वह आपको 10 के बजाय 13 अंकों का मिलेगा.
जानकारी के अनुसार पिछले दिनों दिल्ली में इस विषय पर एक बैठक हुई थी. इस बैठक में ये मुद्दा उठाया गया कि अब 10 अंको वाले नए नम्बरों की गुंजाइश नहीं बची हैं. इसलिए मोबाइल नंबर के अंको को 10 से 13 करने का निर्णय लिया गया. इस निर्णय के तहत नए सिम से मिलने वाले नंबर 13 अंको के होंगे तथा बाद में पहले के बाकी नंबरों को भी 13 अंकों का कर दिया जाएगा.
इस संबंध में केंद्रीय संचार मंत्रालय ने सभी राज्यों को निर्देश जारी कर दिए हैं. साथ ही सभी सर्कल की दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियों को भी इस पर काम शुरू कर देने के आदेश मिल चुके हैं ताकि वो जल्द से जल्द अपने सिस्टम को अपडेट कर ले.
बीएसएनएल ने भी इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं.बीएसएनएल (इंदौर) के वरिष्ठ महाप्रबंधक सुरेश बाबू प्रजापति ने बताया कि दिसंबर 2018 तक पुराने मोबाइल नंबर भी इसी प्रक्रिया के तहत अपडेट होंगे.हालांकि अभी यह तय नहीं है कि वर्तमान में चल रहे मोबाइल नंबरों में बदलाव कैसे होगा.नंबरों में 3 डिजिट आगे की तरफ से जुड़ेंगे या अंत में.
जानकारी के अनुसार इस संबध में मोबाइल हैंडसेट बनाने वाली कंपनियों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने सॉफ्टवेयर को भी 13 अंकों के मोबाइल नंबर के अनुसार अपडेट कर लें, ताकि उपभोक्ताओं को परेशानी न हो.

About Author

Durgesh Dehriya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *