January 22, 2022
#ट्रेंडिंग टॉपिक

वीर दास की कविता “टू इंडियाज़” को लेकर देश मे बवाल क्यों ?

वीर दास की कविता “टू इंडियाज़” को लेकर देश मे बवाल क्यों ?

कॉमेडियन वीर दास (vir das) अपनी एक कविता को लेकर देश में चर्चा और विवाद दोनों का विषय बने हुए हैं। ये कविता उन्होंने सोमवार को अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन डी सी (Washington DC) के दी कैनेडियन सेंटर के एक प्रोग्राम में पढ़ी। कविता का नाम “टू इंडियाज़”(two indias) है।

जिसे वीर दास ने अपने यूट्यूब चैनल पर भी शेयर किया है, इसके बाद से ही इस पर विवाद हो रहा है। लोगो का कहना है कि ये कविता देश के खिलाफ है और ये देशद्रोह का मामला है। हालांकि, वीर ने ट्वीट करके अपनी सफाई दी है।

कविता विवाद का मुद्दा क्यों बनी :

वीर दास ने अपनी कविता के माध्यम से भारत के उन मुद्दों को उजागर किया है जो सबकी आंखों के सामने हैं लेकिन कोई उन्हें देखना नहीं चाहता। वीर दास की इस कविता को भारत विरोधी बताया जा रहा है। इस मामले में वीर दास पर दिल्ली और मुम्बई सहित कई शहरों में FIR दर्ज की जा चुकी हैं। जिसके जवाब में अपने ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करते हुए वीर ने लिखा है, अपनी कविता के माध्यम से देश का अपमान करने का इरादा बिल्कुल नहीं था। मैं बस अपनी कविता से ये बता रहा था कि हमारा देश बहुत से मुद्दों के बाद भी महान हैं। हमें इस पर गर्व होना चाहिए।


हालांकि इस बात को साफ तौर पर कोई नहीं कहेगा कि विवाद आखिर किस बात को लेकर हैं। वीर दास की कविता में भारत के दो चेहरे दिखाने को लेकर या इस कविता को US में पढ़ने को लेकर।



वीर की कविता “टू इंडियाज़ (two indias)” की कुछ लाइनें इस तरह हैं..

” मैं उस भारत से आता हूँ,
जहाँ पत्रकारिता मर चुकी है।।

मैं उस भारत से आता हूँ,
जहाँ AQI 9 हज़ार है लेकिन फिर भी हम छत पर लेटकर आसमान में तारों को देखते हैं।।

मैं उस भारत से आता हूँ,
जहाँ औरतों को दिन में पूजा जाता है और रात में गैंगरेप किया जाता है।।

मैं उस भारत से आता हूं,जहाँ बच्चे मास्क लगाकर एक दूसरे का हाथ थामते हैं।
मैं उस भारत से भी आता हूँ, जहां लीडर्स बिना मास्क लगाए गले मिलते हैं।।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ वेजेटेरियन होने पर गर्व किया जाता है।
मैं उस भारत से भी आता हूँ, जहां उन किसानों को कुचक दिया जाता है जो सब्ज़ियां उगते हैं।।

मैं उस भारत से आता हूँ, जहाँ बेसमेन्ट में कमेंट लिखने वाले बच्चे ऊची इमारतों में रहने वालों से ज़्यादा बहादुर हैं।।

मैं उस भारत से आता हूँ, जो ये देखेगा और कहेगा’ ये कॉमेडी नहीं है…जोक कहाँ है? और मैं उस भारत से भी आता हूँ, जो ये देखेगा और जानेगा की ये बड़ा जोक ही है, बस फनी नहीं हैं।।”


कौंन है वीर दास :

वीर दास एक स्टैंड अप कॉमेडियन और आर्टिस्ट हैं। पूरी दुनिया मे अपनी स्टेण्ड अप कॉमेडी के लिए जाने जाते हैं। ज़्यादातर अंग्रेज़ी में स्टैंड अप शोज़ करते हैं। स्टैंड अप कॉमेडी की शुरुआत US से की थी इसके बाद दिल्ली के हैबिटेट सेंटर से भारत में स्टैंड अप कॉमेडी की शुरुआत की।

Vir das

वीर दास एक एक्टर भी हैं और फिल्मों में काम कर चुके हैं। फ़िल्म नमस्ते लंदन से डेब्यू किया था फिर देहली- बेहली, बदमाश कंपनी, गो गोआ गोन और रिवॉल्वर रानी जैसी फिल्मों में काम किया है। 2014 में अपनी गर्लफ्रैंड शिवानी से श्रीलंका में शादी की थी। वीर दास उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से बिलोंग करते हैं।


About Author

Sushma Tomar