January 22, 2022
उत्तरप्रदेश

गोद मे बच्ची थी, पुलिस लाठियां बरसाती रही

गोद मे बच्ची थी, पुलिस लाठियां बरसाती रही

कानपुर के जिला अस्पताल के बाहर प्रदर्शन कर रहे लोगो को हटाने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है। इसलिए नहीं कि यूपी पुलिस ने बड़ी सहजता और शालीनता से काम लिया है। बल्कि इसलिए क्योंकि इस वीडियो में यूपी पुलिस की बर्बरता साफ दिखाई दे रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स से मिली जानकारी के अनुसार कानपुर में अकबरपुर जिला अस्पताल के चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। जिसके चलते अस्पताल की OPD बंद हो गयी थी और दूसरे काम भी नहीं हो पा रहे थे। विरोध, कर्मचारी संगठन के लीडर रजनीश के निर्देश में किया जा रहा था।

बच्ची को गोद मे लिए शख्स पर चलती रही लाठियां :

सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही इस 6 सेकेंड की वीडियो में कानपुर पुलिस का अधिकारी एक शख्स पर लगातार लाठियां बरसा रहा है। शख्स के हाथ में एक बच्ची है। शख्स लाख दुहाई दे रहा है कि बच्चे को लग जाएगा लेकिन पुलिस अधिकारी नहीं रुकता।

Image : Twitter

शख्स कानपुर जिला अस्पताल का चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी बताया जा रहा है वहीं कहा जा रहा है कि वो लीडर रजनीश शुक्ला का भाई है। और बच्ची भी रजनीश शुक्ला की ही है। दूसरी ओर लाठीचार्ज कर रहा अफसर कानपुर पुलिस का सबइंस्पेक्टर हैं।

UP पुलिस ने घटना पर क्या कहा :

पुलिस वालों का कहना कि जिला अस्पताल के चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए अस्पताल की OPD बंद करवा दी। पुलिसवालों को कमरों में बंद कर दिया गया जिससे हालात बेकाबू हो गए और लाठीचार्ज करना पड़ा। पुलिसवालों का कहना है कि जिस व्यक्ति पर लाठीचार्ज किया गया वो खुद अस्पताल का कर्मचारी है और यूनियन लीडर रजनीश शुक्ला का भाई है। जिसने मामले को भड़काने का काम किया।

ट्वीट बता रहें है, UP पुलिस की हकीकत :

मामले पर ट्वीट करते हुए BJP सांसद वरुण गांधी (varun gandhi) ने ट्वीट करते हुए कहा, “सशक्त कानून व्यवस्था वो होती है जिसमे कमज़ोर से कमज़ोर व्यक्ति को भी न्याय मिले। यह नहीं कि न्याय मांगने वालों को बर्बरता का सामना करना पड़े। ये कष्टदायक है। भयभीत समाज कानून राज का उदहारण नहीं है।”

Image : Twitter

मामले पर ACP ashish kumar नाम के ट्विटर हैंडल पर लिखा गया, ” कुछ पुलिस कर्मियों के हिंसक, अनैतिक और अमानवीय व्यवहार के कारण अधिकांश पुलिस की बदनामी होती है। ऐसी पुलिस को संवेदनशील बनाने की ज़रूरत है”

वहीं दी मुकनायक कि एडिटर मीना कोटवाल ने लिखा, “जानवर कहीं का….”


सबइंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है :

कानपुर के एडीजी भानु भास्कर (ADG BHANU BHASKAR) ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी है की लाठीचार्ज कर रहे सबइंस्पेक्टर को ससपेंड कर दिया गया है। कानपुर देहात के एडिशनल एसपी घनश्याम (additional SP ghanshyam) ने BBC को पुष्टि करते हुए बताया कि सबइंस्पेक्टर विनोद बिष्ट को निलंबित कर दिया गया है।

About Author

Sushma Tomar