फिल्मों का विरोध और बॉलीवुड

फिल्मों का विरोध और बॉलीवुड

विरोध,फिल्म और बॉलीवुड भारत बड़ा देश है अलग अलग लोग,अलग रीती रिवाज़ और अलग अलग मर्जियां और अलग अलग इतिहास आब इसी अलग अलग में सब अलग है इतिहास भी कब किसी ने किसी ने किसी को कहा हराया हो या कहा कोंन हारा हो ये सब बड़ा मिला जुला सा रहता है, अब ये […]

Read More
 आप कैसे कह सकते हैं, कि कोई विरोध न हो

आप कैसे कह सकते हैं, कि कोई विरोध न हो

केसे विरोध न हो… कैसे कोई विरोध न हो,विरोध करता हूँ आपका,आपकी राजनीति का, तो क्या आप टेढ़ी आंखों से देखेंगे मुझे? लेकिन क्यों क्या आप विरोध को खत्म कर देना चाहते है? क्या आप “विपक्ष” को खत्म कर देना चाहते हो? अगर विरोध ही न होगा तो फिर कैसे समाज मे “मार्क्स” पैदा होगा? […]

Read More