कैब और विवेकानंद के भाषण का वह अंश

कैब और विवेकानंद के भाषण का वह अंश

आज जब नागरिकता संशोधन विधेयक, सीएबी के माध्यम से भारत की अवधारणा के अस्तित्व पर आघात किया जा रहा है, तो लगभग डेढ़ सौ साल पहले विवेकानंद के उंस कालजयी भाषण का अंश यह पढा जाना चाहिये, जिसके लिये विवेकानंद, स्वामी विविदिशानंद से स्वामी विवेकानंद बने थे। उनको यह सम्बोधन खेतड़ी के महाराजा ने, शिकागो […]

Read More