मंटो की एक रचना – मैं कहानीकार नहीं जेबकतरा हूँ

मंटो की एक रचना – मैं कहानीकार नहीं जेबकतरा हूँ

सआदत हसन मंटो (11 मई 1912 – 18 जनवरी 1955) उर्दू के प्रसिद्ध लेखक थे, जो अपनी लघु कथाओं, बू, खोल दो, ठंडा गोश्त और बंटवारे पर लिखी मार्मिक और  चर्चित कहानी, टोबा टेकसिंह के लिए प्रसिद्ध हुये थे । कहानीकार होने के साथ-साथ वे फिल्म और रेडिया पटकथा लेखक और पत्रकार भी थे। अपने […]

Read More
 "मंटो" जिसने दो कौमों को बंटते हुए देखा

"मंटो" जिसने दो कौमों को बंटते हुए देखा

मंटो जिसने “विभाजन” देखा,जिसने “इन्सान” को “इन्सान” के हाथो मरते देखा जिसने दो “कौमों” को बंटते हुए देखा और जिसने देखा की कैसे “खून” की प्यास इन्सान ही को हो जाती है और वो खून बहाने पर उतारू हो जाता है , ये सब मंटो ने देखा महसूस किया और उसने एक समाज,एक देश,एक कौम […]

Read More