गोदी मीडिया की ख़बरों में झूठ चल सकता है तो विज्ञापन में सच क्यों चलना चाहिए

गोदी मीडिया की ख़बरों में झूठ चल सकता है तो विज्ञापन में सच क्यों चलना चाहिए

जब ख़बर में झूठ चल सकता है तो विज्ञापन में झूठ क्यों नहीं चल सकता। जो समाज गोदी मीडिया के प्रोपेगैंडा को सच मान कर ख़बर देख रहा है उसे समाज विज्ञापन में झूठे प्रोपेगैंडा को सच मानना ही चाहिए। जो लोग यूपी सरकार के विज्ञापन की आलोचना कर रहे हैं उन्हें विज्ञापन की समझ […]

Read More
 सुनो साहेबान सुनो ! भारत पेट्रोलियम भी बिकेगा

सुनो साहेबान सुनो ! भारत पेट्रोलियम भी बिकेगा

मुझे तभी लगा था जब वित्त मंत्री के रूम अपना पहला बजट लेकर आईं थीं। ब्रीफ़केस की दासता से भारत को आज़ादी दिलाने वाली वित्त मंत्री बजट के मामले में जल्दी ही विचित्र साबित हुईं। गोदी मीडिया ने उन्हें लक्ष्मी बनाकर पेश किया। जबकि काम कुबेर का था। तभी लगा था कि कुबेर छवियों के […]

Read More
 बिहार से लेकर यूपी की परीक्षाओं को लेकर क्यों परेशान हैं छात्र

बिहार से लेकर यूपी की परीक्षाओं को लेकर क्यों परेशान हैं छात्र

सरकारी नौकरियों की भर्ती प्रक्रिया को लेकर सरकारें अब उदासीन बने रहना छोड़ दें। नौजवान यह समझने लगा है कि भर्ती का एलान नौकरी देने के लिए कम, नौकरी के नाम पर सपने दिखाने के लिए ज़्यादा होता है। जब उस भर्ती की प्रक्रिया को पूरा होने में कई साल लग जाते हैं तब नौजवान […]

Read More
 क्या सरकार की नज़र भारतीय रिज़र्व बैंक के रिज़र्व पर है?

क्या सरकार की नज़र भारतीय रिज़र्व बैंक के रिज़र्व पर है?

भारतीय रिज़र्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने 2010 में अर्जेंटीना के वित्त संकट का हवाला क्यों दिया कि केंद्रीय बैंक और सरकार के बीच जब विवाद हुआ तो केंद्रीय बैंक के गवर्नर से इस्तीफा दे दिया और फिर वहां आर्थिक तबाही मच गई। एक समझदार सरकार अपने तात्कालिक सियासी फायदे के लिए एक […]

Read More
 दस साल में यूपीए से ज़्यादा एनडीए ने चार साल में उत्पाद शुल्क चूस लिया

दस साल में यूपीए से ज़्यादा एनडीए ने चार साल में उत्पाद शुल्क चूस लिया

तेल की बढ़ी क़ीमतों पर तेल मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का तर्क है कि यूपीए सरकार ने 1.44 लाख करोड़ रुपये तेल बॉन्ड के ज़रिए जुटाए थे जिस पर ब्याज की देनदारी 70,000 करोड़ बनती है। मोदी सरकार ने इसे भरा है। 90 रुपये तेल के दाम हो जाने पर यह सफ़ाई है तो इस में […]

Read More
 यूनिफॉर्म सिविल कोड का मुद्दा भी बोगस निकला, आप फिर उल्लू बने

यूनिफॉर्म सिविल कोड का मुद्दा भी बोगस निकला, आप फिर उल्लू बने

यूनिफॉर्म सिविल कोड की इस वक्त न ज़रूरत है और न ही यह अनिवार्य है। यह राय भारत के क़ानून आयोग की है। पिछले शुक्रवार को कानून आयोग ने परिवार कानून सुधार पर अपनी तरफ़ से एक चर्चा-पत्र जारी किया है। आयोग का पक्ष है कि समुदायों के बीच समानता की जगह समुदायों के भीतर […]

Read More
 प्रेस की आज़ादी पर 300 अमरीकी अख़बारों के संपादकीय

प्रेस की आज़ादी पर 300 अमरीकी अख़बारों के संपादकीय

अमरीकी प्रेस के इतिहास में एक शानदार घटना हुई है। 146 पुराने अख़बार बोस्टन ग्लोब के नेतृत्व में 300 से अखबारों ने एक ही दिन अपने अखबार में प्रेस की स्वतंत्रता को लेकर संपादकीय छापे हैं। आप बोस्टन ग्लोब की साइट पर जाकर प्रेस की स्वतंत्रता को लेकर लिखे गए 300 संपादकीय का अध्ययन कर […]

Read More
 इतिहास में पहली बार 70 के पार डॉलर, रुपया इतना कभी नहीं गिरा

इतिहास में पहली बार 70 के पार डॉलर, रुपया इतना कभी नहीं गिरा

आज डॉलर 70 के पार चला गया। रुपया डॉलर के सामने थोड़ा और झुक गया। कोई रुपये के पीछे फिर से छिप गया। एक डॉलर की कीमत 70.07 रुपये हो गई है। सोमवार को ट्रम्प का डॉलर 70 टच करते करते रह गया। कमर झुका कर, हाथ खींच कर अंगूठे तक ले भी गया तो […]

Read More
 लाखों नौकरियाँ चुरा रही हैं सरकारें, नौजवान खा रहे हैं झांसा

लाखों नौकरियाँ चुरा रही हैं सरकारें, नौजवान खा रहे हैं झांसा

क्या केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने वो कह दिया जो सब जानते हैं। उनका बयान आया कि आरक्षण लेकर क्या करोगे, सरकार के पास नौकरी तो है नहीं। बाद में नितिन गडकरी की सफाई आ गई कि सरकार आरक्षण का आधार जाति की जगह आर्थिक नहीं करने जा रही है। मगर इसी बयान का दूसरा […]

Read More
 रेलमंत्री जी,ये कैसी ऑनलाइन परीक्षा है कि आरा से हैदराबाद जाना पड़े

रेलमंत्री जी,ये कैसी ऑनलाइन परीक्षा है कि आरा से हैदराबाद जाना पड़े

9 अगस्त से रेलवे की परीक्षा शुरू हो रही है। अस्सिटेंट लोको पायलट और टेक्निशियन के 26,502 पदों के लिए परीक्षा हो रही है जिसमें 47 लाख से अधिक छात्र भाग लेंगे। रेल मंत्रालय की तरफ से दावा किया गया है कि रेलवे दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन परीक्षा कराने जा रहा है क्योंकि इस […]

Read More