योर ऑनर ! हैव यू नो ऑनर?

योर ऑनर ! हैव यू नो ऑनर?

लोकतंत्र के तीन कंगूरे हैं- व्यवस्थापिका, कार्यपालिका, और न्यायपालिका। एकतरफा जनमत देकर, और विपक्ष को लंगड़ा लूला करके, व्यवस्थापिका को 23 करोड़ वोटों ने ढहा दिया। कार्यपालिका की विश्वसनीयता 353 की मेजोरिटिज्म तले कुचली गयी। मगर न्यापालिका को नपुसंक करने में अकेले रंजन गोगोई का योगदान अविस्मरणीय रहेगा। जजों की उस ऐतिहासिक प्रेस कान्फ्रेंस में […]

Read More
 रंजन गोगोई पर यौन शोषण के आरोप लगाने वाली महिला को किया गया बहाल?

रंजन गोगोई पर यौन शोषण के आरोप लगाने वाली महिला को किया गया बहाल?

भारतीय न्यायपालिका के इतिहास में आज एक बड़ा अहम दिन है, आज सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली महिला कर्मचारी को वापस बहाल कर दिया है। उक्त महिला ने दोबारा ड्यूटी जॉइन कर ली है। उसके सभी एरियर की क्लियर कर दिए गए हैं। चीफ जस्टिस […]

Read More