‘प्रेम नाम है मेरा, प्रेम चोपड़ा’ – बेटी की कलम से पिता की आत्मकथा

‘प्रेम नाम है मेरा, प्रेम चोपड़ा’ – बेटी की कलम से पिता की आत्मकथा

‘प्रेम नाम है मेरा, प्रेम चोपड़ा’, इस किताब से मेरा भी याराना है, चंद महीनों का ही सही लेकिन अब साथ जीवन भर का है। सितंबर माह में एक फोन के साथ ‘प्रेम नाम है मेरा, प्रेम चोपड़ा’ किताब ने दस्तक दी थी जिंदगी में। कुछ पल की उलझन थी कि इस किताब का अनुवाद […]

Read More