भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को दी गयी फांसी, उनकी न्यायिक हत्या थी

भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को दी गयी फांसी, उनकी न्यायिक हत्या थी

23 मार्च शहीदे आज़म भगत सिंह का शहीदी दिवस है। इसी दिन लाहौर सेंट्रल जेल, जो अब पाकिस्तान में है में उन्हें फांसी पर लटका दिया गया था। अब वहां एक चौराहा है जिसे शादमान चौक कहा जाता है। उस स्थान का नाम बदलने के लिये पाकिस्तान में एक आंदोलन चल रहा है। सरकार ने […]

Read More
 भगत सिंह के साथियों सुखदेव और राजगुरु को कितना जानते हैं आप ?

भगत सिंह के साथियों सुखदेव और राजगुरु को कितना जानते हैं आप ?

मार्च 23, भगत सिंह का शहादत दिवस है। आज ही के दिन लाहौर के सेंट्रल जेल में भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को अंग्रेजों ने फांसी की सज़ा दी थी। भगत सिंह केवल भावुक क्रांतिकारी ही नहीं बल्कि वे प्रखर और प्रबुद्ध विचारशील और मार्क्सवादी अध्येता भी थे। भारत की आज़ादी उनका लक्ष्य नहीं था। […]

Read More
 23 मार्च को शहीद हुए थे "भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु"

23 मार्च को शहीद हुए थे "भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु"

23 मार्च 1931.. शहीद दिवस के रूप में जाना जाने वाला यह दिन यूं तो भारतीय इतिहास के लिए काला दिन माना जाता है, पर स्वतंत्रता की लड़ाई में खुद को देश की वेदी पर चढ़ाने वाले यह नायक हमारे आदर्श हैं. इन तीनों वीरों की शहादत को श्रद्धांजलि देने के लिए ही हर साल […]

Read More
 ‘सांडर्स’ की हत्या के लिए 17 दिसंबर का ही दिन क्यों चुना गया था ?

‘सांडर्स’ की हत्या के लिए 17 दिसंबर का ही दिन क्यों चुना गया था ?

बात  1928 की है. इंडिया में अंग्रेजी हुकूमत थी. जब साइमन कमीशन भारत अाया. 30 अक्टूबर 1928 को.  जिसके विरोध में पूरे देश में आग भड़क उठी थी. पूरे देश में ‘साइमन कमीशन वापस जाओ’ के नारे लगे. इस विरोध की अगुवाई पंजाबी शेर ‘लाला लाजपत राय’ कर रहे थे. और लाहौर में 30 अक्टूबर 1928 […]

Read More