वो इकलौता बागी “कांग्रेसी” जो इमरजेंसी में जेल गया था

वो इकलौता बागी “कांग्रेसी” जो इमरजेंसी में जेल गया था

गंगा के किनारे बसा ऐतिहासिक शहर बलिया उन क्षेत्रों में से एक हैं जिन्होंने 1947 में सबसे पहले खुद को आज़ादी की घोषणा कर दी थी,शायद यही ही वजह थी कि ग़ुलामी की जंजीरों को तोड़ने का ज़िम्मा यहाँ पैदा होने वालों के खून में पाया जाता है, यही वजह है कि इस जमीन ने […]

Read More