प्रधानमंत्री जी, सोशल मीडिया छोड़िए या न छोड़िये, पर मिथ्यावाचकों से मुक्त हो जाईये

प्रधानमंत्री जी, सोशल मीडिया छोड़िए या न छोड़िये, पर मिथ्यावाचकों से मुक्त हो जाईये

खबर है पीएम ने सोशल मीडिया, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम छोड़ने का निर्णय किया है । कल 2 मार्च को ही उनके यह कह देने के बाद से अलग अलग प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। कुछ उन्हें मना रहे हैं कि वे न छोड़े और कुछ मज़ाक़ उड़ा रहे हैं। दुनियाभर के सभी राष्ट्राध्यक्ष ट्विटर पर हैं। […]

Read More
 सोने का अंडा देने वाली मुर्गी है LIC, और उसकी हिस्सेदारी बेच रही है मोदी सरकार

सोने का अंडा देने वाली मुर्गी है LIC, और उसकी हिस्सेदारी बेच रही है मोदी सरकार

बचपन मे एक कहानी आप सभी ने सुनी होगी, सोने का अंडा देने वाली मुर्गी की कहानी। एक किसान को एक अदभुत मुर्गी मिल जाती है, अदभुत’ इसलिए कि वह प्रतिदिन सोने का एक अंडा देती थी। एक दिन वह सोचता है, कि रोज-रोज एक-एक अंडा निकालना, इसका अर्थ यह हुआ कि इसके पेट में […]

Read More
 2020 के बजट से मोदी सरकार ने फिर साबित कर दिया है, कि उसे अर्थव्यवस्था की कुछ समझ नही

2020 के बजट से मोदी सरकार ने फिर साबित कर दिया है, कि उसे अर्थव्यवस्था की कुछ समझ नही

कम शब्दों में 2020 के इस यूनियन बजट को डिस्क्राइब करना हो, तो यह कहना सही होगा। कि यह बजट ‘बिल्ली का गू’ है….. न लीपने का ओर न पोतने का.. इस बजट से सबको उम्मीदे बहुत थी। भारत गहरी आर्थिक मंदी की चपेट में है। यह बात अब बड़े बड़े विशेषज्ञ भी कुबूल कर […]

Read More
 आँखो की शर्म का भी मर जाना इसे ही कहते हैं

आँखो की शर्म का भी मर जाना इसे ही कहते हैं

जो जेएनयू में हुआ, सोचिए ऐसा ही कुछ अगर यूरोप या अमरीका में कहीं हुआ होता तो वहां के प्रधान की क्या प्रतिक्रिया होती? अमरीका कोई आदर्श नहीं लेकिन फिर भी सोचिए, अगर हॉर्वर्ड में घुसकर कुछ नक़ाबपोशों ने ऐसे ही वहां के छात्रों और शिक्षकों के सर फोड़ दिए होते तो क्या ट्रम्प ऐसी […]

Read More
 नज़रिया – डरी हुयी सरकार

नज़रिया – डरी हुयी सरकार

पाकिस्तान, भारत और बांग्लादेश, एक ही वतन और एक ही बदन के दो हिस्से थे, अब तीन हैं। 1947 का बंटवारा, एक बहुत बड़ी ऐतिहासिक भूल, राजनीतिक महत्वाकांक्षा, पागलपन भरे दौर, और अंग्रेजों की साज़िश का दुष्परिणाम था। यह बंटवारा मुझे फ़र्ज़ी, अतार्किक और बनावटी लगता है। लेकिन इधर कुछ बड़ी सकारात्मक चीज़े हुयी हैं। […]

Read More
 क्या फ़ासीवाद के रास्ते पर जा रहा है भारत का भविष्य ?

क्या फ़ासीवाद के रास्ते पर जा रहा है भारत का भविष्य ?

ये मेरे देश के युवा हैं। मेरे शहर के युवा हैं। मेरे घर के युवा हैं.. अदरवाइज भले और मासूम व्यक्तित्व हैं। देश की आबादी का कोई 60 प्रतिशत युवा है। बांकेलाल के 37% समर्थकों में आधे यही युवा हैं, याने कोई 15 से 18% युवा ऐसी तख्तियों के साथ घूम रहे हैं। उग्रता के […]

Read More
 नाज़ियों का Ghetto और वह मुस्लिम बस्तियां जिसे आप मिनी पाकिस्तान कहते हैं

नाज़ियों का Ghetto और वह मुस्लिम बस्तियां जिसे आप मिनी पाकिस्तान कहते हैं

आपके आसपास कोई मुस्लिम बस्ती है क्या?  वही, जिसे आपके शहर का ” मिनी पाकिस्तान कहते” हैं। कभी देखिएगा ध्यान से, शायद ही ऐसी बस्ती “पॉश” कही जा सकती हैं। इनके हालात Ghetto से बेहतर नही होते। Ghettoization शब्द का बड़ा दागदार इतिहास है। घेट्टो एक तरह की चाल होती है, मुम्बई की चाल आपने […]

Read More
 क्या अब GST फेल होने की कगार पर है ?

क्या अब GST फेल होने की कगार पर है ?

GST की व्यवस्था ढाई साल पूरे होने को है और अब यह व्यवस्था फेल होने की कगार पर हैं। कल टाइम्स की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि करीब 1 करोड़ जीएसटी रजिस्ट्रेशन वाले समय पर रिटर्न फाइल नहीं कर रहे हैं। आपको जानकर यह आश्चर्य होगा कि कुल जीएसटी रजिस्ट्रेशन ही 1 करोड़ […]

Read More
 सरकार ने अपने वोटरों के लिए पूरा सिलेबस तैयार किया हुआ है

सरकार ने अपने वोटरों के लिए पूरा सिलेबस तैयार किया हुआ है

घर पर हूं, पापा और मैं दोनों एक ही टीवी देखते हैं। चैनल एक ही हैं, एंकर एक ही हैं। संबित पात्रा एक ही समय पर हर चैनल पर जाकर जनता को मिसएजुकेट नहीं कर सकता, इसलिए एबीपी न्यूज, आजतक, न्यूज18, रिपब्लिक टीवी, जी हिंदुस्तान, जी न्यूज पर भांति-भांति के एंकर टिके हुए हैं। बनावट […]

Read More
 तुम्हे यकीन नही होता, मगर भारत ये 1947 में भी नहीं चाहता था

तुम्हे यकीन नही होता, मगर भारत ये 1947 में भी नहीं चाहता था

यकीन नही होगा, मगर अब यह खात्मे की शुरुआत है। नरेन्द्र मोदी साहब का इमरजेंसी मोमेंट शुरू हो चुका है। अब पीछे हटे तो कोर समर्थकों का सम्मान खोएंगे। बदस्तूर आगे बढ़े तो देश गृहयुद्ध की ओर बढेगा। आगे कुआं, पीछे खाई.. मोदी साहब ने इतिहास में अपना स्थान तय कर लिया है। उनके काल […]

Read More