दलित एवं पिछड़ों की आवाज़ थे कांशीराम

दलित एवं पिछड़ों की आवाज़ थे कांशीराम

अलग अलग समय पर दुनिया भर में सामाजिक अत्याचारों और भेदभाव के खिलाफ संघर्ष होते रहे हैं.इन संघर्षों से कई बड़े नेता उभर कर सामने आते रहे हैं.जैसे दक्षिण अफ्रीका में नस्लीय भेदभाव के विरुद्ध नेल्सन मंडेला, अमरीका में अब्राहम लिंकन एवं मार्टिन लूथर किंग. भारत में भी जात-पात, छुआछूत तथा नस्लीय भेदभाव के विरुद्ध […]

Read More
 जब साथ आये थे कांशीराम और मुलायम

जब साथ आये थे कांशीराम और मुलायम

बाबरी मस्जिद राम मंदिर विवाद के दौर की बात है,बाबरी मस्जिद ढहा दी गयी थी,चारों तरफ हाहाकार सा मचा हुआ था,राजनितिक स्थिति भी बेहतर नही थी,और बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के बाद बर्खास्त हो चुकी सरकार को दोबारा चुने जाने के लिए चुनाव होना था | भाजपा पूरी तेयारी में थी क्यूंकि उसके पास “राम […]

Read More
 जब कांशीराम ने किया था, मायावती को मुख्यमंत्री बनाने का वादा

जब कांशीराम ने किया था, मायावती को मुख्यमंत्री बनाने का वादा

देश में जब कभी पिछड़ी जाति और दलित वर्ग के अधिकारों की बात की जाती है, तो सबसे पहले जुबान पर डॉ. भीमराव अंबेडकर, कांशीराम का नाम आता है.लेकिन 21वीं सदी में जिस महिला दलित नेता ने ना केवल उत्तर भारत अपितु शेष भारत पर भी अपनी छाप छोड़ी, वह हैं ‘मायावती’. मायावती वो नाम […]

Read More