हादिया केस में लव था, "जिहाद" नहीं – NIA

हादिया केस में लव था, "जिहाद" नहीं – NIA

NIA ने अपनी तसल्ली करके बता दिया कि हदिया केस में लव था , जिहाद नही। याद रहे हदिया केस लव जिहाद के नाम पर कुप्रचारित किया गया था इसमे 2 एडल्ट्स ने अपनी मर्ज़ी से शादी की थी। यह इतना मामूली केस था कि जितना हल्का आप सबने ” ठीक है, ई हमको नाही, […]

Read More
 विचार – प्रेम की ज्योति को जलाने की ज़रूरत है

विचार – प्रेम की ज्योति को जलाने की ज़रूरत है

बदलते परिवेश में बहुत कुछ बदल चुका है संघर्ष के मायने ,सत्य का अर्थ सच्चाई ,अहिंसा सब कुछ अपने अपने वास्तविक अर्थो से परे हो गए है। हिंसा अब अहिंसा का अंग बन गई और असत्य अब सत्य से आगे चलता है। भावना ,संवेदना सिर्फ दिखावे तक ही सीमित है ये सब व्यक्तिगत स्वार्थ के […]

Read More
 ऑनर किलिंग के दंश से कब बाहर निकलेगा देश ?

ऑनर किलिंग के दंश से कब बाहर निकलेगा देश ?

देश की राजधानी दिल्ली में 23 वर्षीय अंकित की प्रेम प्रसंग के चलते की गई हत्या पर. अंकित फोटोग्राफर था और ‘ऑवारा ब्वॉयज’ नाम से यू ट्यूब चैनल चलाता था. पत्राचार से ग्रेजुएशन करने वाली मुस्लिम समुदाय की 20 वर्षीय लड़की से उसे प्रेम हुआ. आरोप है कि लड़की के घरवालों ने अंकित की सरेराह […]

Read More
 मुहब्बत में "मैं " को मारना पड़ता है

मुहब्बत में "मैं " को मारना पड़ता है

मोहब्बत क्या है? किसी को पाना या खुद को खो देना..! इश्क़, मोहब्बत प्रेम इस दुनिया का सबसे दिलचस्प और सबसे भ्रामक विषय है.. जितने लोग उतने एहसास.. उतनी बातें..! प्रेम दुखदायी भी हो सकता है, क्योंकि इससे आपके अस्तित्व को खतरा है.. जैसे ही आप किसी से कहते हैं, ’मुझे तुमसे मोहब्बत है.. वैसे […]

Read More
 कविता – इश्क के शहर में

कविता – इश्क के शहर में

मेरी बातें तुम्हें अच्छी लगतीं, ये तो हमको पता ना था तुम हो मेरे हम हैं तुम्हारे, ये कब तुमने हमसे कहा जिस दिन से है जाना मैंने आपकी इन बातों को ना है दिन में चैन कहीं, न है रातों को.. पहली बार जो तुमको देखा, दो झरनों में डूब गए बाँहों से तेरी […]

Read More

कविता – बस स्मृति हैं शेष

अति सुकोमल साँझ- सूर्यातप मधुर; सन्देश-चिरनूतन, विहगगण मुक्त: कोई भ्रांतिपूर्ण प्रकाश असहज भी, सहज भी, शांत अरु उद्भ्रांत… कोई आँख जिसको खोजती थी! पा सका न प्रमाण; युतयुत गान; मेरे प्राण ही को बेधते थे| शांति और प्रकाश, उन्मन वे विमल दृग्द्वय समय की बात पर संस्थित मुझे ही खोजते थे| मैं न था, बस […]

Read More