स्मृति- जब रामायण केंद्रित अंताक्षरी में एक मुस्लिम युवक ने पढ़ा श्लोक

स्मृति- जब रामायण केंद्रित अंताक्षरी में एक मुस्लिम युवक ने पढ़ा श्लोक

मैं मुस्कराया और उनसे कहा यही तो हमारी सांझी संस्कृति है जो कोई भी न तो हमें अलग कर सकता और न ही छीन सकता है। गंगा यमुना के संगम की तरह हम एक दूसरे में मिल महसूसते बहते जाते। इसी से शायद गंगा यमुनी तहज़ीब की बात होती है

Read More