टैगोर और अल्लामा इक़बाल को अपना प्रेरणा स्रोत मानते थे "दिनकर"

टैगोर और अल्लामा इक़बाल को अपना प्रेरणा स्रोत मानते थे "दिनकर"

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ जिन्होंने ने हिंदी साहित्य में न सिर्फ वीर रस के काव्य को एक नयी ऊंचाई दी, बल्कि अपनी रचनाओं के माध्यम से राष्ट्रीय चेतना का भी सृजन किया. रामधारी सिंह ‘दिनकर’ का जन्म 23 सितंबर 1908 को बिहार के बेगूसराय जिले में हुआ था. रामधारी सिंह दिनकर ने पटना विश्वविद्यालय से […]

Read More
 "जी शंकर कुरूप" देश के पहले ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता

"जी शंकर कुरूप" देश के पहले ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता

गोविन्द शंकर कुरुप या जी शंकर कुरुप मलयालम भाषा के प्रसिद्ध कवि थे.उनकी प्रसिद्ध रचना ‘ओटक्कुष़ल’ अर्थात ‘बाँसुरी’ भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले साहित्य के सर्वोच्च सम्मान ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’से सम्मानित हुई थी.‘महाकवि’ गोविंद शंकर कुरुप की 40 से अधिक मौलिक और अनूदित कृतियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं.आज उनकी पुण्यतिथि पर जानिए देश के पहले […]

Read More