ये थी पंडित नेहरू की आखिरी इच्छा

ये थी पंडित नेहरू की आखिरी इच्छा

आज भारत में हर खराब स्तिथि के लिए सिर्फ नेहरू को जिम्मेदार माना जाता है। पर आज जिस आधुनिक भारत में हम जी रहे हैं, उसके लिए हमे देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का शुक्रगुजार होना चाहिए। जवाहर लाल नेहरू को आधुनिक भारत का जनक कहा जाता है। भारत जिस समय आजाद हुआ […]

Read More
 धर्मनिपेक्षता पर पंडित नेहरू के क्या विचार थे ?

धर्मनिपेक्षता पर पंडित नेहरू के क्या विचार थे ?

‘‘हम भारत में धर्मनिरपेक्ष राज की बात करते हैं। लेकिन संभवतः हिंदी में ‘सेक्यूलर’ के लिए कोई अच्छा शब्द तलाशना भी मुश्किल है। कुछ लोग समझते हैं कि धर्मरिपेक्ष का मतलब कोई धर्मविरुद्ध बात है। यह बिल्कुल भी सही नहीं है। इसका मतलब तो यह है कि एक ऐसा राज जो हर तरह की आस्था […]

Read More
 व्यक्तित्व – कुछ बातें नेहरु के बहाने

व्यक्तित्व – कुछ बातें नेहरु के बहाने

आज 14 नवम्बर है और आज ही के दिन, इलाहाबाद में जवाहरलाल नेहरू का जन्म वर्ष 1889 ई में हुआ था। उनके जन्मदिन पर उन्हें स्मरण करते हुए Ashok Kumar Pandey जी का यह खूबसूरत लेख पढ़ें। जवाहर लाल नेहरु का ज़िक्र सोशल मीडिया, अखबारों और चंडूखानों में केवल 14 नवम्बर तक महदूद नहीं रहता। […]

Read More
 यह दुष्प्रचार है कि नेहरू ने पटेल को अपनी कैबिनेट में मंत्री बनाने से मना कर दिया था

यह दुष्प्रचार है कि नेहरू ने पटेल को अपनी कैबिनेट में मंत्री बनाने से मना कर दिया था

विदेश मंत्री जयशंकर ने एक ट्वीट कर के कहा है कि, ” मुझे एक पुस्तक से ज्ञात हुआ है कि 1947 मे जो पहली कैबिनेट बनी थी, उसमे सरदार बल्लभ भाई पटेल का नाम नहीं था। यह एक बहस का मुद्दा है। पुस्तक की लेखक इस तथ्य के उद्घाटन पर दृढ़ हैं। ” ट्वीट इस […]

Read More
 जब 5 फ़रवरी 1950 को भीमराव अंबेडकर ने संसद में हिंदू कोड बिल पेश किया

जब 5 फ़रवरी 1950 को भीमराव अंबेडकर ने संसद में हिंदू कोड बिल पेश किया

5 फरवरी 1950 को आज ही के दिन हिंदू कोड बिल संविधान सभा में डॉक्टर अंबेडकर द्वारा पेश किया गया था। उस वक्त संविधान सभा में और सड़क में इस बिल का पहले से विरोध हो रहा था। तब इस बिल के कारण अंबेडकर और नेहरू को बहुत आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। हिंदुओं […]

Read More
 कश्मीरी ब्राम्हण राज कौल से पंडित नेहरू तक ?

कश्मीरी ब्राम्हण राज कौल से पंडित नेहरू तक ?

मोतीलाल नेहरू का परिवार मूलतः कश्मीर घाटी से था। अठारहवीं सदी के आरम्भ में पंडित राज कौल ने अपनी मेधा से मुग़ल बादशाह फरुखसियार का ध्यान आकर्षित किया और वह उन्हें दिल्ली ले आये जहाँ कुछ गाँव जागीर के रूप में मिले, हालाँकि फरुखसियार की हत्या के बाद जागीर का अधिकार घटता गया, लेकिन राज […]

Read More
 वो पत्र, जो नेहरु और सरदार पटेल ने एक-दूसरे को लिखा था?

वो पत्र, जो नेहरु और सरदार पटेल ने एक-दूसरे को लिखा था?

आज सरदार पटेल का जन्मदिन है। आज गुजरात मे उनकी एक विशालकाय प्रतिमा का अनावरण हो रहा है और देश मे एकता दिवस मनाया जा रहा है। कही रन फ़ॉर यूनिटी निकालीं जा रही है तो कहीं उन्हें किसी और तरह से याद किया जा रहा है। आज भारत का जो भौगोलिक स्वरूप हम नक्शे […]

Read More