शीशा तोड़ कर बाहर नही निकलते तो, 100+ बच्चे दम घुटने कि वजह से मारे जाते

शीशा तोड़ कर बाहर नही निकलते तो, 100+ बच्चे दम घुटने कि वजह से मारे जाते

5 बजे जामिया मिल्लिया इस्लामिया के अंदर का माहौल बिलकुल नार्मल था, किसी भी बाहरी आदमी को अंदर आने कि इजाज़त नही थी, स्टूडेंट भी आईकार्ड दिखा कर ही अंदर आ सकते थे, अंदर में मौजूद बच्चे छोटे छोटे झुंड में बैठे थे, नारा तक नही लग रहा था।  कुछ बच्चे और बच्चियाँ उस तिरंगे […]

Read More
 तुम्हे यकीन नही होता, मगर भारत ये 1947 में भी नहीं चाहता था

तुम्हे यकीन नही होता, मगर भारत ये 1947 में भी नहीं चाहता था

यकीन नही होगा, मगर अब यह खात्मे की शुरुआत है। नरेन्द्र मोदी साहब का इमरजेंसी मोमेंट शुरू हो चुका है। अब पीछे हटे तो कोर समर्थकों का सम्मान खोएंगे। बदस्तूर आगे बढ़े तो देश गृहयुद्ध की ओर बढेगा। आगे कुआं, पीछे खाई.. मोदी साहब ने इतिहास में अपना स्थान तय कर लिया है। उनके काल […]

Read More
 नज़रिया – यूनिवर्सिटी छात्रों से मारपीट के क्या मायने हैं?

नज़रिया – यूनिवर्सिटी छात्रों से मारपीट के क्या मायने हैं?

आप सब जानते है कि NRC CAB के नाम से भारत को तोड़ने का काम किया जा रहा है। जब एक तरफ देश ‘भुखमरी,  बेरोजगारी, आर्थिक मंदी से गुज़र रहा है, जब देश मे हो रहे बलात्कारों से हैवान भी कांप रहे हैं। जब हर तरफ त्राहि त्राहि मची है, उस वक़्त सरकार ने आखिर […]

Read More
 दिल्ली पुलिस बिना इजाज़त कैंपस में घुसी, हम FIR दर्ज कराएंगे – जामिया कुलपति

दिल्ली पुलिस बिना इजाज़त कैंपस में घुसी, हम FIR दर्ज कराएंगे – जामिया कुलपति

दिल्ली की जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी में हुई कल पुलिस द्वारा छात्रों के साथ की गई हिंसा के मामले में कुलपति नजमा अख्तर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पुलिस के कैंपस में घुसकर छात्रों के साथ मारपीट करने पर कहा – दिल्ली पुलिस बिना इजाज़त विश्वविद्यालय कैंपस में घुसी थी, पुलिस के […]

Read More
 बच्चे तो सबके होते हैं… आज हंसने का ‘इमोजी’ लगाने वालों ने मेरा भ्रम तोड़ दिया

बच्चे तो सबके होते हैं… आज हंसने का ‘इमोजी’ लगाने वालों ने मेरा भ्रम तोड़ दिया

बच्चे-बच्चे …यह सुनकर कुछ लोग तंग हो गए हैं, वे लाइब्रेरी में पढ़ने वाले युवाओं को उग्रवादी ही नहीं आतंकवादी करार देना चाहते हैं। चालीस-पचास दशक पार कर चुके हम बड़े 20-22 साल के युवाओं को बच्चे नहीं मान सकें तो …..हम बंट चुके हैं, बुरी तरह दरारें पैदा की गईं हैं…..याद रखिए इन दरारों […]

Read More