बेच देना अब राष्ट्रवाद और राष्ट्र हित बन गया है

बेच देना अब राष्ट्रवाद और राष्ट्र हित बन गया है

अटल बिहारी वाजपेयी ने विनिवेश मंत्रालय बनाकर सरकारी कम्पनियों होटलों को बेचना शुरू किया था। पेंशन खा गए। लाखों लोगों की नौकरियां खा गए। उनके शासन में बैंकों में 5 साल तक वैकेंसी सीज रही। अन्य सरकारी विभागों में भी वैकेंसी नहीं आती थी रेलवे छोड़कर। उनकी सरकार चली गई। विनिवेश और निजीकरण मनमोहन सिंह […]

Read More