इतिहास में दुष्प्रचार और झूठ का तड़का

इतिहास में दुष्प्रचार और झूठ का तड़का

इतिहास के साथ दुष्प्रचार और गलतबयानी एक आम बात रही है। सत्तारूढ़ शासक अक्सर अपने विकृत और विद्रूप अतीत को छुपाना चाहते है और अपने बेहतर चेहरे को जनता के सामने लाना चाहते है। इतिहास में वे बेहतर शासक और व्यक्ति के रूप मे याद किये जांय, यह उन सबकी दिली इच्छा होती है। संघ […]

Read More
 नज़रिया – लोकतंत्र के दामन में भाजपा ही नहीं, कांग्रेस ने भी बहुत दाग लगाए हैं

नज़रिया – लोकतंत्र के दामन में भाजपा ही नहीं, कांग्रेस ने भी बहुत दाग लगाए हैं

जाइए उन लोगों से पूछ कर देखिए कि कांग्रेस लोकतांत्रिक है या नहीं, जिनके बेटों/शौहरों को हाशिमपुरा से उठाकर मुरादनगर नहर के पास ज़िंदा गोली मार दी गयी थी और वे बेचारे तीन दशक तक लड़ते रहे पर फिर भी न्याय नहीं मिला। जिसकी ज़िम्मेदार यही सेक्युलर कांग्रेस थी। थोड़ा सा और आगे बढ़िए, मुरादाबाद […]

Read More