नज़रिया – ये नाम बदलने वाली राजनीति दकियानूसी और सांप्रदायिक कुंठा का प्रतीक है

नज़रिया – ये नाम बदलने वाली राजनीति दकियानूसी और सांप्रदायिक कुंठा का प्रतीक है

सावरकर ने अंग्रेज़ों को माफीनामा लिखा, आपने उन्हें ‘वीर’ माना और सावरकर के नाम के साथ वीर सावरकर लिख दिया, किसी ने रोका क्या? पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने देश में सांप्रदायिक बीज बोने में महत्तवपूर्ण योगदान दिया, आपने उन्हें अपना आदर्श माना किसी ने रोका क्या? आपने दीन दयाल उपाध्याय के नाम मुग़ल सराय रेलवे […]

Read More
 "हज़रतगंज" –  क्या मुस्लिमों से सम्बंधित नामों को बदल देना चाहती हैं भाजपा की सरकारें?

"हज़रतगंज" – क्या मुस्लिमों से सम्बंधित नामों को बदल देना चाहती हैं भाजपा की सरकारें?

उत्तरप्रदेश सरकार लखनऊ के मशहूर चौराहे ” हज़रतगंज” का नाम बदल कर अटल चौक रख रही है. जिसका काफी विरोध हो रहा है. दरअसल हज़रत गंज चौराहे का नाम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हज़रत महल के नाम पर रखा गया था.  पत्रकार पंकज श्रीवास्तव कहते हैं –  “हज़रतगंज,बेग़म हज़रतमहल नहीं वाजिदअली शाह के पिता अमजदअली शाह […]

Read More