व्यक्तित्व – कहते हैं कि, ग़ालिब का है अंदाज़ ए बयां और

व्यक्तित्व – कहते हैं कि, ग़ालिब का है अंदाज़ ए बयां और

आह को चाहिये, इक उम्र असर होने तक, कौन जीता है, तेरी ज़ुल्फ़ के सर होने तक ( ग़ालिब ) आह, का असर हो, इसके लिए, एक उम्र यानी एक लंबा वक़्त चाहिए। तुम्हारे सुन्दर कुंतल राशि पर मेरा अधिकार हो , यह इस जन्म में संभव नहीं है। जितना समय उस कुंतल पर अधिकार […]

Read More