“और कितनी मोहब्बत तुम्हें चाहिए ऐ फ़राज़ – माजिद मजाज़”

“और कितनी मोहब्बत तुम्हें चाहिए ऐ फ़राज़ – माजिद मजाज़”

“सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं ये बात है तो चलो बात करके देखते हैं”। तो आइए आज बात करते हैं इस जैसी हज़ारों बेमिशाल ग़ज़लों और शेरों के ख़ालिक़, आबरू-ए-गज़ल, इस अहद की सच्चाइयों के अलंबरदार, लफ़्ज़ को फूल बनाने वाली शख़्सियत अहमद फ़राज़ के बारे में। अहमद फ़राज़ पाकिस्तान के […]

Read More