मध्यप्रदेश- खरगोन में इकट्ठा हुये दलित आदिवासी और किसान, कहा – NPR , NRC और CAA नामंजूर

मध्यप्रदेश- खरगोन में इकट्ठा हुये दलित आदिवासी और किसान, कहा – NPR , NRC और CAA नामंजूर

28 जनवरी 2020: भोपाल/खरगोन आज खरगोन जिले में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एन.पी.आर), राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एन.आर.सी.) और नागरिकता संशोधन अधिनियम (सी.ए.ए.) के खिलाफ दलित, आदिवासी, तथा अन्य नागरिक समूहों द्वारा ‘संविधान बचाओ जन आन्दोलन’ के नाम से एकजुट हो कर, मध्य प्रदेश सरकार से प्रदेश सरकार से प्रदेश में एन.पी.आर नहीं लागू करने के सम्बन्ध […]

Read More
 अक्सर खामोश रहने वाले गुलजार की बोली को समझने की कोशिश करनी ही होगी

अक्सर खामोश रहने वाले गुलजार की बोली को समझने की कोशिश करनी ही होगी

कहीं पढ़ा था कि गुलजार साहब टॉलस्टॉय के एक वाक्य से बेहद प्रभावित हैं। ‘ तब तक मत लिखो, जब तक उसे लिखे बिना रह नहीं सकते हो।’ माने तब तक मत कहो जब तक कहे बिना रह नहीं सकते हो। तो अब अपने जीवन के 81 वें साल में अगर वो कुछ कह रहे […]

Read More
 एनआरसी और आशंका भरा नागरिकता संशोधन कानून ( CAA )

एनआरसी और आशंका भरा नागरिकता संशोधन कानून ( CAA )

“आप को सड़क पर खड़े होकर छड़ी घुमाने का अधिकार है, पर तभी तक, जब तक कि वह छड़ी किसी की नाक में न लगे।” यह एक प्रसिद्ध उद्धरण है जो निजी स्वतंत्रता की सीमा रेखा तय करता है। नागरिकता संशोधन कानून ( नासंका ) या सीएए के पारित हो जाने के बाद देश भर […]

Read More
 NRC बस आखरी लाइन है, इसके आगे आर्यावर्त है

NRC बस आखरी लाइन है, इसके आगे आर्यावर्त है

नेता कितना भी मजबूत हो, उम्र के हाथों मजबूर होता है। सत्तर की उम्र काफी होती है, 75 की और भी ज्यादा..। हमारे डियर लीडर, अस्ताचलगामी हैं। मगर जैसा कि हर राजा की इच्छा होती है, आजीवन सत्ता सूत्र से बेदखल नही होना चाहता। तो बिसात चल दी गयी है। सेमी-रिटायर्ड नेता के अप्रेन्टिस ने […]

Read More
 क्या नागरिकता संशोधन कानून का सारा खेल वोटिंग डेमोग्राफी को बदलने के लिए है ?

क्या नागरिकता संशोधन कानून का सारा खेल वोटिंग डेमोग्राफी को बदलने के लिए है ?

जब आप कहते हैं कि धर्म आधारित नागरिकता देने से आप पर या छात्रों पर क्या असर पड़ता है तो या तो आप बेहद मूर्ख हैं या हद से ज़्यादा शातिर। कौन नहीं जानता कि नागरिकता संशोधन क़ानून का मक़सद क्या है? इस काले क़ानून ने हिंदू-मुसलमानों के बीच विभाजन और अविश्वास बढ़ाने का अपना […]

Read More
 घुसपैठ, नागरिकता संशोधन कानून और संविधान

घुसपैठ, नागरिकता संशोधन कानून और संविधान

1947 में भारत आज़ाद तो हुआ पर दो भागों में बंट कर। एक भाग धार्मिक आधार पर इस्लामी मुल्क बना, दूसरा भाग जिसने स्वाधीनता संग्राम के मूल्यों और भारतीय संस्कृति की आत्मा सर्वधर्म समभाव के मार्ग को चुना एक उदार और पंथनिरपेक्ष देश बना रहा। बंटवारे की बात जब चल रही थी तो शायद ही […]

Read More