जब प्रोटोकाल तोड़कर फ़ैज़ से मिले थे अटल बिहारी वाजपेयी

जब प्रोटोकाल तोड़कर फ़ैज़ से मिले थे अटल बिहारी वाजपेयी

बतौर विदेश मंत्री अटल बिहारी बाजपेई पाकिस्तान के आधिकारिक दौरे पर थे।प्रोटोकॉल तोड़ कर फ़ैज़ से मिलने उनके घर गए।सब चकित। दोनों दो तरह से सोचने वाले ।फ़ैज़ भी चकित।मिलने पर वाजपेईजी ने कहा – मैं सिर्फ एक शेर के लिए आप से मिलने आया हूं। और शेर पढ़ा – मक़ाम ‘फ़ैज़’ कोई राह में […]

Read More
 NRC बस आखरी लाइन है, इसके आगे आर्यावर्त है

NRC बस आखरी लाइन है, इसके आगे आर्यावर्त है

नेता कितना भी मजबूत हो, उम्र के हाथों मजबूर होता है। सत्तर की उम्र काफी होती है, 75 की और भी ज्यादा..। हमारे डियर लीडर, अस्ताचलगामी हैं। मगर जैसा कि हर राजा की इच्छा होती है, आजीवन सत्ता सूत्र से बेदखल नही होना चाहता। तो बिसात चल दी गयी है। सेमी-रिटायर्ड नेता के अप्रेन्टिस ने […]

Read More
 नज़रिया – भारत का आधार धर्म नहीं धर्मनिरपेक्षता है

नज़रिया – भारत का आधार धर्म नहीं धर्मनिरपेक्षता है

सन् 85 के बाद पैदा होने वालों के साथ एक बड़ी दिक्कत हो रही है। इनमें से अधिकतर को देश और धर्म के बीच फर्क करना नहीं आ रहा है। ये दिक्कत कश्मीर में उन लोगों के साथ भी है जो सशस्त्र संघर्ष कर रहे हैं, और उनके भी साथ है जो बाकी भारत में […]

Read More
 आजकल का राष्ट्रवाद, सेक्युलरवाद और हिंदुत्व

आजकल का राष्ट्रवाद, सेक्युलरवाद और हिंदुत्व

देश में जहाँ एक तरफ राष्ट्रवाद का सर्टिफिकेट बांटा जा रहा है तो दूसरी तरफ़ सेक्युलरवाद का, मेरी समझ में लगता है सर्टिफिकेट बांटने वालों ने आपस में गुप्त समझौता कर लिया है की राष्ट्रवाद का मतलब पूर्ण हिंदुत्व, और सेक्युलरवाद का मतलब मिक्स्ड हिंदुत्व है। आप यदि पूर्ण हिंदुत्व के समर्थक हैं तो आप […]

Read More
 क्या पकिस्तान के नाम पर देश को बेवकूफ़ बना रही है मोदी सरकार ?

क्या पकिस्तान के नाम पर देश को बेवकूफ़ बना रही है मोदी सरकार ?

यकीन मानिये पाकिस्तान के प्रति हालिया युद्धोन्माद का एक कारण पुलवामा हमले के साथ साथ लोकसभा चुनाव 2019 भी है। चुनाव बाद जो भी सरकार आएगी वह पाकिस्तान से बातचीत करेगी ही। यह बातचीत पाकिस्तान के प्रति अनुराग या हृदय परिवर्तन का परिणाम नहीं होगा बल्कि यह अंतराष्ट्रीय कूटनीतिक समीकरण और दोनों देशों के नाभिकीय […]

Read More
 राष्ट्र निर्माण का मापदंड क्या है ?

राष्ट्र निर्माण का मापदंड क्या है ?

कभी संघ के विचारक देश के विकास के रूप में विश्वस्तरीय शिक्षा संस्थान, शोध संस्थान, चरक, सुश्रुत, धन्वंतरि, अश्विनीकुमारों के नाम पर, ( ये नाम भी भारतीय परंपरा के चिकित्सा शास्त्र से जुड़े प्रसिद्ध नाम हैं और संघ इन नामों पर अपना कॉपीराइट समझता है ) बड़े बड़े प्रतिभा सम्पन्न अस्पताल, चिकित्सा केंद्र , नालंदा […]

Read More
 भारत पाकिस्तान और बांग्लादेश में फर्क क्या है ?

भारत पाकिस्तान और बांग्लादेश में फर्क क्या है ?

कोई कंही से पूरा नहीं चला जाता, जँहा से आये वँहा अपना कुछ छूट गया और उनका कुछ साथ आ गया, नहीं समान नहीं ! अमरीका में रहते हुए भारत की याद बेतरह सताती थी सो अमरीका में भारत खोजते थे। चाव तो आता था की घर भी विदेशियों संग बांटे लेकिन दो दिन में […]

Read More
 गांधी के साथ,या गांधी के ख़िलाफ़?

गांधी के साथ,या गांधी के ख़िलाफ़?

एक एक कर बारी बारी चारों गोलियाँ सीने को चीरते हुए उसमे समा गई और महज़ उन बंदूक से निकले बारूद ने एक युग को,एक समाज को और एक विचारधारा को महज कुछ गोलियों से ढेर कर दिया,वो बूढ़ा जिस्म वही ढेर हो गया,और “हे राम” के साथ एक महात्मा को एक “हैवान” ने मौत […]

Read More
 भारत- पाकिस्तान के रिश्तों पर जमी बर्फ को तोड़ने का समय आ गया

भारत- पाकिस्तान के रिश्तों पर जमी बर्फ को तोड़ने का समय आ गया

( यह लेख मूल रूप से अंग्रेज़ी में लिखा गया था, जिसे विख्यात पत्रकार “सुहासिनी हैदर” ने “द हिंदू” अखबार के लिए लिखा था, पेश है Time for an icebreaker: on India-Pakistan relations का हिंदी अनुवाद ) 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद दोनों देशों के बीच दूरियों का बढ़ते जाना लाज़मी था, लेकिन पूरी […]

Read More
 देशप्रेम या देशभक्ति का दिखावा

देशप्रेम या देशभक्ति का दिखावा

Patriotism is the last refuge of a scoundrel” “देशभक्ति निकृष्टो की अंतिम शरण है” ये प्रसिद्ध कथन Samuel Johnson का है जो आज भी सही प्रतीत हो रहा है| आजकल अपने आस-पास एक ट्रेंड चल रहा है देशभक्ति,देशभक्ति का सीधा सा अर्थ है जो देश व देश के संविधान का सम्मान करता हो | आजकल […]

Read More