महात्मा गांधी से एक मुलाकात में “गांधीवादी” हो गए थे चार्ली चैप्लिन।

महात्मा गांधी से एक मुलाकात में “गांधीवादी” हो गए थे चार्ली चैप्लिन।

2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में जन्मे मोहनदास करमचंद गांधी केवल एक व्यक्तित्व नहीं है।वो एक सोच हैं जो तब तक जिंदा रहेगी जब तक भारतवर्ष रहेगा, इसलिए तो कहते है कि भारत के राष्ट्रपिता और बापू की उपाधि उन्हें यूं ही नहीं मिली। बता दूं कि, भारत के इतिहास को जब भी […]

Read More
 व्यक्तित्व – जब बतक़ मियाँ ने बचाई बापू की जान

व्यक्तित्व – जब बतक़ मियाँ ने बचाई बापू की जान

आज जब के देश महात्मा गांधी जी की 71 वीं बरसी मनाने में मगन है और पूरा सोशल मीडिया गांधी जी को श्रद्धांजली अर्पित कर रहा है,ऐसे समय में एक हस्ती और है जिसको याद किए बग़ैर यह चर्चा ही अधूरी है. मैं बात कर रहा हूं भारत के महान सपूत और स्वतंत्रता सेनानी बत्तख़ […]

Read More
 गांधी के साथ,या गांधी के ख़िलाफ़?

गांधी के साथ,या गांधी के ख़िलाफ़?

एक एक कर बारी बारी चारों गोलियाँ सीने को चीरते हुए उसमे समा गई और महज़ उन बंदूक से निकले बारूद ने एक युग को,एक समाज को और एक विचारधारा को महज कुछ गोलियों से ढेर कर दिया,वो बूढ़ा जिस्म वही ढेर हो गया,और “हे राम” के साथ एक महात्मा को एक “हैवान” ने मौत […]

Read More