अपने ही देश की तल्ख़ सच्चाई से रूबरू कराता ये सफ़र

अपने ही देश की तल्ख़ सच्चाई से रूबरू कराता ये सफ़र

दोपहर हो चली है और उमरिया स्टेशन पर उतर कर हम जेनिथ के दफ्तर पहुंचे है. यहाँ साथी बिरेन्द्र इंतज़ार कर रहे है और हम नहाकर और थोड़ा सा नाश्ता करके गाँव की ओर निकल पड़ते है. रास्ते में बिरेन्द्र ने बताया कि अभी तक हम लोग नौ गाँव तक पहुंच चुके है. काफी सीख […]

Read More