अधिकारों का ऐसा दुरुपयोग हुआ कि सुप्रीम कोर्ट के अधिकारों को चुनौती मिलने लगी

अधिकारों का ऐसा दुरुपयोग हुआ कि सुप्रीम कोर्ट के अधिकारों को चुनौती मिलने लगी

सुप्रीम कोर्ट की अवमानना के मामले में कॉमेडियन कुणाल कामरा का स्टैंड न सिर्फ बड़ी खबर है बल्कि उन वकीलों और वकालत के छात्रों के लिए सीख भी है जो कतिपय कम महत्वपूर्ण मुद्दों पर मुकदमा चलाने की अनुमति मांगते हैं। यह ठीक हो सकता है कि कुणाल कामरा के ट्वीट से सुप्रीम कोर्ट की […]

Read More
 नज़रिया – अभिव्यक्ति की आज़ादी और अर्नब गोस्वामी केस ?

नज़रिया – अभिव्यक्ति की आज़ादी और अर्नब गोस्वामी केस ?

अर्नब गोस्वामी के मामले में ताजी खबर यह है कि 9 नवंबर को बॉम्बे हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत की उनकी अर्जी खारिज कर दी है, और उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अपील की जिसकी आज 11 नवम्बर को सुनवाई हुयी। सुप्रीम कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी और एक अन्य सह अभियुक्त को अंतरिम जमानत पर रिहा करने […]

Read More
 पहले चोरी, फिर फोटोकॉपी और अब तीन पन्ने छूट गए हुज़ूर

पहले चोरी, फिर फोटोकॉपी और अब तीन पन्ने छूट गए हुज़ूर

इस सरकार में सबसे अधिक धर्मसंकट में अगर कोई है तो देश के अटॉर्नी जनरल और सॉलिसिटर जनरल हैं। यह धर्म संकट राफेल मामले में सुप्रीम कोर्ट में हो रही सुनवायी को लेकर है। सरकार राफेल मामले में फंसी पड़ी है। पीएमओ ने सारी प्रक्रिया को ताक पर रख कर एक डिफाल्टर पूंजीपति को दसॉल्ट […]

Read More
 दिल्ली की चुनी हुई सरकार को काम करने दें LG – सुप्रीम कोर्ट

दिल्ली की चुनी हुई सरकार को काम करने दें LG – सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने अपना अहम फैसला सुनाया. दिल्ली सरकार बनाम एलजी के बहुप्रतिक्षित मामले में सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया कि दिल्ली की बॉस चुनी हुई सरकार है, एलजी नहीं. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एलजी की मनमानी नहीं चलेगी और हर मामले में फैसले से पहले एलजी की सहमति की जरूरत नहीं. सुप्रीम […]

Read More
 संविधान की झूठी व्याख्याओं के दंभ की हार हुई है

संविधान की झूठी व्याख्याओं के दंभ की हार हुई है

येदियुरप्पा ने किसानों की जितनी बात की है उतनी तो चार साल में देश के कृषि मंत्री ने नहीं की होगी। उन्हें ही कृषि मंत्री बना देना चाहिए और न्यूज एंकरों को बीजेपी का महासचिव। एक एंकर बोल रहा था कि येदियुरप्पा इस्तीफा देंगे। नेरेंद्र मोदी कभी इस तरह की राजनीति को मंज़ूरी नहीं देते। […]

Read More
 जजों की नियुक्ति के मुद्दे पर सरकार और सुप्रीम कोर्ट के बीच बढ़ रही तकरार

जजों की नियुक्ति के मुद्दे पर सरकार और सुप्रीम कोर्ट के बीच बढ़ रही तकरार

जस्टिस मदन बी. लोकुर और अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल के बीच जमकर गरमा गरम बहस हुई. मणिपुर के एक मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस लोकुर ने AG से पूछा कि फिलहाल उच्च न्यायालयों में जजों की नियुक्ति को लेकर कोलेजियम की कितनी सिफारिश लंबित हैं? अटॉर्नी जनरल ने कहा कि मुझे ये जानकारी जुटानी होगी.उन्होंने […]

Read More
 पहली महिला जज थीं, भारत की "एम. फ़ातिमा बीबी"

पहली महिला जज थीं, भारत की "एम. फ़ातिमा बीबी"

भारत में महिलाओं की स्थिति में पिछली कुछ सदियों में काफी बदलाव आए हैं, हालांकि आज भी महिला सुरक्षा प्रमुख मुद्दा बना हुआ है.प्राचीन काल में पुरुषों के साथ बराबरी की स्थिति से लेकर मध्ययुगीन काल के निम्न स्तरीय जीवन और साथ ही कई सुधारकों द्वारा समान अधिकारों को बढ़ावा दिए जाने तक, भारत में […]

Read More
 मोबाईल से आधार लिंक करने के केंद्र के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने उठाये सवाल

मोबाईल से आधार लिंक करने के केंद्र के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने उठाये सवाल

केंद्र सरकार द्वारा मोबाईल फ़ोन से आधार को जोड़ने को अनिवार्य करने वाले फ़ैसले पर सवाल किये हैं. कोर्ट ने बुधवार को कहा कि उपयोगकर्ताओं के अनिवार्य सत्यापन पर उसके पिछले आदेश को औजार के रूप में प्रयोग किया गया. मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने कहा कि […]

Read More
 अधिकतर भारतीय अमित शाह के बारे में सच को अच्छी तरह समझते हैं – राहुल गांधी

अधिकतर भारतीय अमित शाह के बारे में सच को अच्छी तरह समझते हैं – राहुल गांधी

जज बीएच लोया की मौत के मामले में जांच की मांग करने वाली याचिकाओं को खारिज करने के उच्चतम न्यायालय के फैसले से कांग्रेस ने असहमति जताते हुए कहा कि कई सवाल हैं, जिनके जवाब पाने के लिए इस मामले में निष्पक्ष जांच की आवश्यकता है. Indians are deeply intelligent. Most Indians, including those in […]

Read More
 इस तरह आस्तित्व में आया भारत का सुप्रीम कोर्ट

इस तरह आस्तित्व में आया भारत का सुप्रीम कोर्ट

भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है जहाँ अनेक धर्म, रंग, जाति के लोग साथ रहते है ऐसे में सभी लोगों के अधिकरो की पूर्ति, समानता -स्वतंत्रता को सुनिश्चित करने के लिए ,मतभेदों को सुलझाने और न्याय दिलाने के लिए स्वतंत्र एवं निष्पक्ष न्यायालय की आवश्यकता महसूस हुई ,100 करोड़ से अधिक लोगो का […]

Read More