नज़रिया – 10 प्रतिशत गरीब सवर्ण आरक्षण, सवर्णों के साथ एक ऐतिहासिक धोखा है

नज़रिया – 10 प्रतिशत गरीब सवर्ण आरक्षण, सवर्णों के साथ एक ऐतिहासिक धोखा है

देश के सभी सरकारी संस्थानों में 10 प्रतिशत गरीब सवर्णों का जातिगत आरक्षण लागू करने के लिए रॉकेट गति से काम हो रहा है। दिल्ली विश्विद्यालय में मीटिंग पर मीटिंग हो रही है। लेकिन दिल्ली विश्विद्यालय में यह नौकरी देने के बजाय नौकरी छीनने का हथियार साबित हो रहा है। 31 जनवरी 2019 को केंद्र […]

Read More