बकवास और बोगस मुद्दा है लाभ के पद का मामला

बकवास और बोगस मुद्दा है लाभ के पद का मामला

हर सरकार तय करती है कि लाभ का पद क्या होगा, इसके लिए वह कानून बनाकर पास करती है। इस तरह बहुत से पद जो लाभ से भी ज़्यादा प्रभावशाली हैं, वे लाभ के पद से बाहर हैं। लाभ के पद की कल्पना की गई थी कि सत्ता पक्ष या विपक्ष के विधायक सरकार से […]

Read More
 यूनिवर्सिटी बचेगी तो सामाजिक और भाषाई विविधता से ही

यूनिवर्सिटी बचेगी तो सामाजिक और भाषाई विविधता से ही

भारत में जनजाति न तो पूरी तरह से परिभाषित है न ही इसे आंशिक रूप से समझा गया है। ब्रिटिश प्रशासन को उन समुदायों पर नियंत्रण करने या उनसे रिश्ता बनाने में मुश्किल हो रही थी जिन्होंने अपने प्रशासन के लिए वैसी राज्य व्यवस्था का कोई विकसित रूप नहीं बनाया था। अंग्रेज़ों ने इन समुदायों […]

Read More
 क्या जीएसटी ने नए नए चोर पैदा किए हैं?

क्या जीएसटी ने नए नए चोर पैदा किए हैं?

फाइनेंशियल एक्सप्रेस के सुमित झा ने लिखा है कि जुलाई से सितंबर के बीच कंपोज़िशन स्कीम के तहत रजिस्टर्ड कंपनियों का टैक्स रिटर्न बताता है कि छोटी कंपनियों ने बड़े पैमाने पर कर चोरी की है। कंपोज़िशन स्कीम क्या है, इसे ठीक से समझना होगा। अखबार लिखता है कि छोटी कंपनियों के लिए रिटर्न भरना […]

Read More
 क्यों अमरीका में सबसे अधिक आत्महत्या किसान ही कर रहे हैं – रविश कुमार

क्यों अमरीका में सबसे अधिक आत्महत्या किसान ही कर रहे हैं – रविश कुमार

अमरीका के 17 राज्यों में किसानों की आत्महत्या का प्रतिशत बाकी किसी अन्य पेशे के मुक़ाबले 5 गुना ज़्यादा हो गया है। वरिष्ठ सैनिकों की आत्महत्या दर से भी दुगना। आस्ट्रेलिया में हर चार दिन पर और ब्रिटेन में हर सात दिन पर एक किसान आत्महत्या करता है। फ्रांस में हर दूसरे दिन एक किसान […]

Read More
 अर्थ जगत की कुछ ख़बरों को जानने में बुराई नहीं है – रविश कुमार

अर्थ जगत की कुछ ख़बरों को जानने में बुराई नहीं है – रविश कुमार

वरिष्ठ पत्रकार रविश कुमार अपनी पत्रकारिता और एंकरिंग में धमाल मचाने के बाद आजकल सोशलमीडिया में अपनी पत्रकारिता से धमाल मचाये हुए हैं. तथ्यों और ख़बरों पार आधारित उनकी फ़ेसबुक पोस्ट बहुत ज़्यादा पसंद की जाती हैं. फ़िलहाल उन्होंने देश की प्कुछ प्रमुख आर्थिक घटनाओं पर एक फ़ेसबुक पोस्ट की है, पेश है रविश की […]

Read More
 युवाओं की आकांक्षा की हत्या का राष्ट्रीय प्रोजेक्ट – रविश कुमार

युवाओं की आकांक्षा की हत्या का राष्ट्रीय प्रोजेक्ट – रविश कुमार

भारत से अमरीका पढ़ने जाने वाले छात्रों की संख्या में इस साल 12.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। चीन से जाने वाले छात्रों की संख्या में 6.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। लगातार तीन साल से अमरीका जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या बढ़ती जा रहीहै। 186,267 छात्र अमरीका गए हैं। अमरीकी यूनिवर्सिटी में पचास […]

Read More
 नेता बोल रहे हैं, जनता की कोई नहीं सुन रहा – रविश कुमार

नेता बोल रहे हैं, जनता की कोई नहीं सुन रहा – रविश कुमार

सुशील मोदी ने गुंडा लोगों से फोन करवाया कि पूर्व स्वास्थ्य मंत्री से बात करनी है तो मैंने कहा कि बोलिए बोल रहे हैं। फिर बोला कि मेरा लड़का है उत्कर्ष मोदी उसकी शादी है। बियाह में बुला रहा है, बेइज्ज़त कर रहा है। बियाह में जाएंगे तो वहीं पोल खोल देंगे जनता के बीच […]

Read More
 रोबोट करेंगे काम, आदमी करेगा आराम ही आराम – रविश कुमार

रोबोट करेंगे काम, आदमी करेगा आराम ही आराम – रविश कुमार

यह लेख पत्रकार रविश कुमार की वाल से लिया गया है – हमें लोगों को काम देने का तरीका खोजना होगा या लोगों को टाइम पास करने का तरीका खोज लेना होगा।” ड्यूश बैंक के सीईओ क्रेन के इस बयान पर हंसी आ सकती है। उनका अपना ही बैंक 2 साल में 4000 नौकरियां कम […]

Read More
 रविश कुमार ने फ़ेसबुक पोस्ट से बताया नोटबंदी का असर

रविश कुमार ने फ़ेसबुक पोस्ट से बताया नोटबंदी का असर

केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने नोटबंदी के फ़ायदे गिनाते हुए कह डाला कि इससे देह व्यापार में भी कमी आई है. उनके इस बयान के बाद उनका सोशलमीडिया में खूब मज़ाक उड़ाया गया. नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर मोदी सरकार जश्न मनाने जा रही है. जिस कारण वह विपक्ष, बुद्धिजीवी एवं पत्रकारों के […]

Read More
 जिसे देश की ग़रीबी का पता नहीं वही खिचड़ी की बात करता है – रविश कुमार

जिसे देश की ग़रीबी का पता नहीं वही खिचड़ी की बात करता है – रविश कुमार

खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय ने ‘खिचड़ी’ को इंडियन फूड के रूप में पेश करने का आइडिया दिया था, जिसे मंजूर कर लिया गया है. मंत्रालय का तर्क है कि चाहे अमीर हों या गरीब, ‘खिचड़ी’ सबका पसंदीदा खाना है. वरिष्ठ पत्रकार रविश कुमार ने खिचड़ी पर चल रही चर्चा पर एक व्यंगात्मक पोस्ट अपने फ़ेसबुक पेज […]

Read More