नज़रिया – क्या महाराष्ट्र में किसी बड़ी पटकथा को अंजाम दिया जा रहा है ?

नज़रिया – क्या महाराष्ट्र में किसी बड़ी पटकथा को अंजाम दिया जा रहा है ?

मुंबई भारत का कुबेर है– अपना खजाना भरने के लिए हर दल यहा अपना रसूख रखना चाहता है — सबसे ज्यादा चन्दा और धन वाले दल की मुंबई हाथ से जाने की छटपटाहट किसी से छुपी नहीं है। अम्बानी के घर से बहुत दूर एक कार में थोड़ी सी जिलेटिन छड मिलने की सारी घटना […]

Read More
 उद्धव सरकार के मंत्री ने कहा, जज लोया की मौत की जांच कराने पर कर रहे हैं विचार

उद्धव सरकार के मंत्री ने कहा, जज लोया की मौत की जांच कराने पर कर रहे हैं विचार

लगता है महाराष्ट्र समेत पाँच राज्यों  में सत्ता गँवाने के बाद भाजपा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। ऐसी खबरें आ रही हैं, कि उद्धव ठाकरे सरकार सुबूतों के आधार पर जज लोया केस की जांच करवा सकती है। इस बात के संकेत उद्धव सरकार में गृहमंत्री अनिल देशमुख व एनसीपी […]

Read More
 कौन हैं डॉ मनीषा बांगर? जो नितिन गडकरी को दे रही हैं चुनावी चुनौती

कौन हैं डॉ मनीषा बांगर? जो नितिन गडकरी को दे रही हैं चुनावी चुनौती

समाज को बदलने का जुनून और चुनौतियों से टकराने की प्रेरणा सावित्री बाई फुले से हासिल करने वाली डॉ. मनीषा बांगर अकसर अपने साहसिक फैसलों से लोगों को अचरज में डाल देती हैं. पीपुल्स पार्टी ऑफ इंडिया ने डॉ. बांगर के इन्हीं साहसिक गुणों के मद्देनजर जब उनके समक्ष 2019 लोकसभा चुनाव लड़ने का प्रस्ताव […]

Read More
 सीरिया समस्या पर औरंगाबाद में देश का सबसे बड़ा प्रदर्शन

सीरिया समस्या पर औरंगाबाद में देश का सबसे बड़ा प्रदर्शन

सिविल सोसाइटी और विभिन्न राजनीतिक दलों के हज़ारों लोगों ने 17 मार्च को सीरिया में चल रहे मानवीय संकट के खिलाफ महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर में एक बड़ा प्रदर्शन किया है। इस विरोध मार्च का नेतृत्व स्वामी अग्निवेश और सलमान निजामी ने किया था। लोगों ने नारे लगाते हुए और सीरियाई सरकार द्वारा की जा […]

Read More
 क्या आपको स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें पता हैं ?

क्या आपको स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें पता हैं ?

भारत मे कई सालों से अच्छे और प्रासंगिक आंदोलनों का अभाव से हो गया था, लोग अपनी मांगों को मनवाने के लिए या विरोध दर्ज कराने के लिए हिंसक प्रदर्शन या नारेबाज़ी तक ही सिमट कर रह गए थे, ऐसा शायद इसलिए कि एक शांतिपूर्ण और जायज़ मांगो वाला आंदोलन हर आंदोलनकारी से सयंम, विश्वास, […]

Read More
 नज़रिया – नंगे पाँव चलता किसान उनको माओवादी नज़र आता है

नज़रिया – नंगे पाँव चलता किसान उनको माओवादी नज़र आता है

क्या किसी विरोधी विचारधारा के किसान संगठन के बैनर तले इकठ्ठा होकर किसान प्रदर्शन करें तो भारतीय जनता पार्टी और संघ के लोगों को किसानों की मांग और प्रदर्शन पर सवाल उठाने का अधिकार मिल जाता है. देश की लगभग हर राजनीतिक पार्टी और विचारधारा सरे सम्बन्ध रखने वाले अलग-अलग संगठन कार्य कर रहे हैं. […]

Read More
 भीमा कोरेगांव में दलितों एवं भगवा संगठनों के मध्य हिंसा

भीमा कोरेगांव में दलितों एवं भगवा संगठनों के मध्य हिंसा

महराष्ट्र में जगह-जगह दलितों एवं दक्षिणपंथी समूहों के बीच झड़प की ख़बर मीडिया में आ रही है. यह झड़प और हिंसा पुणे जिले में भीमा-कोरेगांव की लड़ाई की 200वीं सालगिरह पर आयोजित कार्यक्रम के बाद हुई है. हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई है और 40 से ज्यादा वाहनों को आग के हवाले […]

Read More