दिल्ली हिंसा की न्यायिक जांच क्यो नहीं ?

दिल्ली हिंसा की न्यायिक जांच क्यो नहीं ?

23 फरवरी को दिल्ली में हो रहे सीएए विरोधी आंदोलन के दौरान कुछ आंदोलनकारियों ने उत्तर पूर्वी दिल्ली के इलाके की एक सड़क पर धरना देना शुरू कर दिया और उससे यातायात बाधित हो गया। इस पर सरकार समर्थित सीएए के पक्ष में कुछ लोग भाजपा नेता कपिल मिश्र के साथ वहां पहुंचे और इसका […]

Read More
 क्या दिल्ली में जो कुछ हुआ, वो किसी नफ़रती प्रोजेक्ट का हिस्सा है ?

क्या दिल्ली में जो कुछ हुआ, वो किसी नफ़रती प्रोजेक्ट का हिस्सा है ?

यह ना संयोग है ना प्रयोग बल्कि एक प्रोजेक्ट है जिसे बहुत तेजी से पूरा किया जा रहा है। भारत को ‘हम’ और ‘वे’ में बांट देने का प्रोजेक्ट, जिसके लिये कई दशकों से प्रयास किया जा रहा था। दिमागों में पैदा किये गये विभाजन और हिंसा अब जमीन पर दिखाई पड़ने लगी है। जिसके […]

Read More
 शाहीनबाग शूटर के परिवार ने आप से संबंध होने से इंकार  किया

शाहीनबाग शूटर के परिवार ने आप से संबंध होने से इंकार किया

दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को कहा कि पिछले सप्ताह दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शन स्थल पर गोलियां चलाने वाला कपिल गुर्जर आम आदमी पार्टी का सदस्य है। इसके बाद से भक्त लोग परेशान हैं कि विरोधियों ने इसपर कुछ नहीं लिखा। भक्तों को पता नहीं चला, उनके भगवान और प्रचार तंत्र ने नहीं बताया […]

Read More
 सुतली बम : समाज आगे जा चुका है, पुलिस की कहानियां पुरानी पड़ चुकी हैं

सुतली बम : समाज आगे जा चुका है, पुलिस की कहानियां पुरानी पड़ चुकी हैं

एक खबर हिन्दी के अखबारों के किसी कोने में आए दिन छ्पती रहती है कि कुएं की मुंडेर पर डकैती की साजिश करते तीन पकड़े गए. तीन दशक से ये ख़बरे पढ़ रहा हूँ. अलग अलग जिलों से और अलग अलग समय में ये साजिशकर्ता पकड़े जाते हैं. उनके पास से बरामदगी भी कई साल […]

Read More
 क्या है केजरीवाल सरकार की "होम डिलेवरी" स्कीम ?

क्या है केजरीवाल सरकार की "होम डिलेवरी" स्कीम ?

साभार: तीखी बात न्यूज़ – दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को अपने ड्रीम प्रॉजेक्ट ‘डोरस्टेप डिलिवरी’ की शुरुआत कर दी है। इसे आप की सरकार आपके द्वार बताया जा रहा है, कहा जा रहा है कि यह देश ही नहीं बल्कि दुनिया की पहली ऐसी योजना है। इस योजना के शुरू होते ही […]

Read More
 "रामलीला मैदान" का नाम क्यों बदलना चाहती है भाजपा ?

"रामलीला मैदान" का नाम क्यों बदलना चाहती है भाजपा ?

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक नॉर्थ दिल्ली म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन ने यह प्रस्ताव दिया है कि रामलीला मैदान का नाम बदलकर अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखा जाये. Delhi: North Delhi Municipal Corporation has proposed the renaming of Ramlila Maidan after former PM Atal Bihari Vajpayee. pic.twitter.com/js5bAPAyRq — ANI (@ANI) August 25, 2018 रामलीला मैदान […]

Read More
 दिल्ली में कोचिंग कर रहे छात्रों के साथ कौन कर रहा है गुंडागर्दी?

दिल्ली में कोचिंग कर रहे छात्रों के साथ कौन कर रहा है गुंडागर्दी?

दिल्ली में अन्य राज्यों से आकर मुखर्जी नगर और अन्य क्षेत्रों में कोचिंग प्राप्त कर रहे छात्रों के साथ एक बड़ी समस्या आ गई है. कुछ दिन पूर्व एक प्रोपर्टी डीलर और स्टूडेंट विवाद के बाद छात्रों के साथ स्थानीय गुंडों द्वारा की गई मारपीट के बाद छात्रों ने लेखक नीलोत्पल मृणाल के साथ प्रदर्शन […]

Read More
 इस विख्यात कवि के हाल देखकर रो देंगे आप, खुद के जीवित होने का देना पड़ रहा है सुबूत

इस विख्यात कवि के हाल देखकर रो देंगे आप, खुद के जीवित होने का देना पड़ रहा है सुबूत

बेगम ने एक दिन कहा नौकर से बदतमीज़, उसने दिया जवाब कि कमतर नहीं हूं मैं. मैडम ज़रा तमीज़ से बातें किया करो, नौकर हूँ आपका, कोई शौहर नहीं हूं मैं. (असरार जामई) पटना में पैदा हुए, उर्दू अदब में तंजो-मिज़ाह के शायर असरार जामई का नाम किसी तारीफ का मोहताज नहीं है, चार किताबें […]

Read More
 गौशालाओं में मरती गायों पर चुप हैं, गौरक्षा के नाम पर इंसानों का क़त्ल करने वाले?

गौशालाओं में मरती गायों पर चुप हैं, गौरक्षा के नाम पर इंसानों का क़त्ल करने वाले?

देश में आये दिन गौरक्षा के नाम पर समुदाय विशेष को निशाना बनाना आम बात है, पर वास्तव में गौसेवा से यही गुंडागर्दी करने वाला समूह दूर है. खुद को धर्मरक्षक बताने वाले इन गौरक्षकों के आतंक से देश कई हिस्से कलंकित हैं. पर मामला जब गायों के गौशाला में मारे जाने का हो, तो […]

Read More
 भूख से होने वाले मौतों का ज़िम्मेदार कौन?

भूख से होने वाले मौतों का ज़िम्मेदार कौन?

रॉकेट साईंस नहीं है। हम पिछले साल ग्लोबल हंगर इंडेक्स में तीन पायदान नीचे सरक गए,यानी 119 देशों की लिस्ट में भारत 97 से 100 वें नंबर पर आ गया । परिवार राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण बताता है कि 1998-2002 के बीच 17 फीसदी बच्चे ही कुपोषण का शिकार थे, लेकिन 2012-2016 के बीच 21% […]

Read More