न नागरिक की इज़्ज़त का ख़याल, न अपनी सरकार का, न पार्टी का

न नागरिक की इज़्ज़त का ख़याल, न अपनी सरकार का, न पार्टी का

कमाल के योगी हैं। न नागरिक की इज़्ज़त का ख़याल, न अपनी सरकार का, न पार्टी का – और तो और गेरुआ बाने का भी नहीं। विधायक आया और शान में चौड़ा होता लौट गया। कहता है, सरेंडर किसलिए। मैं तो आरोपी ही नहीं हूँ। पीड़िता के मुख से आरोप सारी दुनिया सुन चुकी। बाप […]

Read More