नज़रिया – बस इतना ही कहूँगा की "फरिशता लौट आया है"

नज़रिया – बस इतना ही कहूँगा की "फरिशता लौट आया है"

ऑक्सीजन कि कमी के कारण बच्चों को तङपता देख एक डॉक्टर ने रात में भागदौड़ कर गैस सिलेंडर का इंतेज़ाम किया, सुबह तक अपनी गाड़ी में लाद कर सिलेंडर पहुंचाते रहे, जब कैश की बात आई तो खुद का एटीएम अपने सह कर्मचारी को दे दिया, बच्चों के परिजनों के रोने पर वो डाक्टर भी […]

Read More