नज़रिया – बस इतना ही कहूँगा की "फरिशता लौट आया है"

नज़रिया – बस इतना ही कहूँगा की "फरिशता लौट आया है"

ऑक्सीजन कि कमी के कारण बच्चों को तङपता देख एक डॉक्टर ने रात में भागदौड़ कर गैस सिलेंडर का इंतेज़ाम किया, सुबह तक अपनी गाड़ी में लाद कर सिलेंडर पहुंचाते रहे, जब कैश की बात आई तो खुद का एटीएम अपने सह कर्मचारी को दे दिया, बच्चों के परिजनों के रोने पर वो डाक्टर भी […]

Read More
 ज़रा सोचियेगा ! अगर तुम्हारी बेटी या बहन रेप की शिकार हो जाएँ तो ?

ज़रा सोचियेगा ! अगर तुम्हारी बेटी या बहन रेप की शिकार हो जाएँ तो ?

शर्म और हया जिसे इस्लाम में ईमान का एक हिस्सा कहा गया है. तुम्हें वो शर्म भी नहीं आई, तुम उस बच्ची गीता को भाभी कह कह कर पोस्ट कर रहे हो. मैंने देखा तुम्हारी आई-डी, अच्छे से चैक किया. तुम ये जस्टीफ़ाई कर रहे थे कि गीता अपनी मर्ज़ी से शाहबाज़ के साथ गई. […]

Read More
 नज़रिया – ये सारे शहर में दहशत सी क्यूँ है?

नज़रिया – ये सारे शहर में दहशत सी क्यूँ है?

कुछ सालों से भारत में धार्मिक त्यौहार एक त्यौहार के तौर पर नहीं मनाकर धौंस, धमकी, भयभीत करने और अपना मानसिक प्रदूषण निकालने का जरिया ज़्यादा बना गए हैं, पिछले दिनों टोंक में और देश के कई शहरों में हिंदू नव वर्ष के शुभारंभ के अवसर पर निकाले गए जुलूस के दौरान आगज़नी, मारपीट और […]

Read More
 तिरंगा और भगवा का घातक घालमेल

तिरंगा और भगवा का घातक घालमेल

कासगंज का दंगा उस दिन हुआ, जब देश गणतंत्र दिवस मना रहा था। इसे हिंदू भी मना रहे थे, तो मुसलमान भी पीछे नहीं थे। लेकिन इस पर भी सांप्रदायिकता का रंग चढ़ा दिया गया। अभी ठीक ठीक किसी को नहीं मालूम कि दंगा क्यों भड़का? आरोप प्रत्यारोपों का दौर जारी है। लेकिन इस हकीकत […]

Read More