इस विख्यात कवि के हाल देखकर रो देंगे आप, खुद के जीवित होने का देना पड़ रहा है सुबूत

इस विख्यात कवि के हाल देखकर रो देंगे आप, खुद के जीवित होने का देना पड़ रहा है सुबूत

बेगम ने एक दिन कहा नौकर से बदतमीज़, उसने दिया जवाब कि कमतर नहीं हूं मैं. मैडम ज़रा तमीज़ से बातें किया करो, नौकर हूँ आपका, कोई शौहर नहीं हूं मैं. (असरार जामई) पटना में पैदा हुए, उर्दू अदब में तंजो-मिज़ाह के शायर असरार जामई का नाम किसी तारीफ का मोहताज नहीं है, चार किताबें […]

Read More