नज़रिया – क्या कहती है मध्यप्रदेश की आदिवासी राजनीती?

नज़रिया – क्या कहती है मध्यप्रदेश की आदिवासी राजनीती?

जिस राज्य की 24 प्रतिशत आबादी आदिवासी समुदाय की हो, वहाँ पर उनका प्रतिनिधित्व नगण्य हो, सुनकर अजीब लगता है. पर मध्यप्रदेश की कहानी ऐसी ही है. पिछले कई सालों से यहाँ आदिवासी समुदाय की राजनीतिक उपस्थिति नगण्य रही है. गोंड,प्रधान,भील और अन्य आदिवासी समुदायों की भारी तादाद प्रदेश में निवास करती है. महाकौशल, मालवा,निमाड़ […]

Read More