October 20, 2021

दिल्ली के बॉर्डर पर पिछले साल सितंबर से किसान आंदोलन (farmer protest) कर रहे है। ये आंदोलन नए कृषि कानूनों (farm laws) को लेकर किया जा रहा है, वहीं इन आंदोलनों की अध्यक्षता BKU (भारतीय किसान यूनिंयन) और संयुक्त किसान मोर्चा कर रहें है । बीते दिनों मुजफ्फरनगर और करनाल में किसान महापंचायत भी आयोजित की गई थी।

लेकिन अब दिल्ली एनसीआर (NCR) के गाज़ियाबाद (gaziyabad) से किसान आंदोलन को लेकर नया अपडेट आया है। दरअसल, गाज़ियाबाद स्थित लोनी के किसानों ने आंदोलन करने का एक नया तरीका अपनाया है। यहाँ ज़मीन में खड्डा खोद कर किसान अमरण आमरण अनशन करने के लिे बैठ गए हैं। 

गाज़ियाबाद में किसानों का आमरण अनशन:

Abp news के हवाले से किसान नेता मनवीर तेवतिया का कहना है कि अब किसान आमरण अनशन पर रहेंगे। ये अनशन तब तक चलेगा जब तक सरकार किसानों की बात नहीं मान लेती।  किसानों ने अमरण अनशन करने का नया तरीका खोजा है।


अब किसान खड्डा खोद कर उसमें बैठ गए है। बता दें कि पिछले साल से ही कृषि कानूनों का विरोध किया जा रहा है, वहीं BKU और किसान मोर्चा के नेतृत्व में लाखों किसान आंदोलन कर रहें है। हाल ही में यूपी के मुजफ्फरनगर और हरियाणा के करनाल में किसान महापंचायत भी आयोजित की गई थी।

राकेश टिकेट और योगेंद्र यादव अहम भूमिका में:

बीते दिनों करनाल और यूपी में हुई किसान महापंचायत को यूपी चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है। वहीं महापंचायत में BKU नेता राकेश टिकेट (rakesh tikait) और योगेन्र्द यादव (yogendra yadav) अहम भूमिका में नज़र आ रहे हैं। गौरतलब है कि लंबे समय से दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर (gazipur border) समेत अन्य बॉर्डर्स पर किसान लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। जिसकी अगुवाई भारतीय किसान यूनिंयन और किसान संयुक्त मोर्चा कर रहा है।

About Author

Sushma Tomar