January 25, 2022
  1. चीन ने 2017 में 279 अरब अमेरिकी डालर खर्च किया भारत ने केवल 15 अरब अमरिकी डालर खर्च किया।
  2. चीन अपनी जीडीपी का 1% अनुसंधान पर खर्च करता है (1995 में यह 0.56% था)। भारत जीडीपी का 0.6% खर्च करता है (यह 1995 में भी 0.6% था)। इजराइल 4.3% और संयुक्त राज्य अमेरिका 2.8% खर्च करता है।
  3. चीन का खर्च पांच साल में 71% बढ़ गया है। भारत के लिए, यह 46% है और 2015 के बाद से, यह असल में कम हुआ है
  4. भारत का खर्च पिछले 20 वर्षों से जीडीपी के 6% से 0.7% तक रहा है। यह बस स्थिर है।
  5. चीन के 301 की तुलना में केवल 26 भारतीय कंपनियां शिखर की 2500 आरएंडडी कंपनियों में हैं ।
  6. नेचर इंडेक्स राइजिंग स्टार्स के मुताबिक, शिखर के 100 विश्वविद्यालयों में 51 चीन के हैं। भारत के शून्य ।
  7. चीन अपने कुल अनुसंधान खर्च में अमेरिका से भी आगे निकलने वाला है। भारत कुछ और दशक बाद 1% खर्च को छू लेगा।
  8. हमारे लगभग सभी अनुसंधान और विकास (आरएंडडी) व्यय भारत सरकार करती है। राज्य सरकारें कुछ नहीं। निजी क्षेत्र नगण्य ।
  9. यहां तक कि ओएनजीसी जैसे हमारे पीएसयू जिसे अनुसंधान में निवेश करना चाहिए बड़ी मूर्तियों और कुंभ मेला के लिए दान करते हैं और विश्वविद्यालयों की अनुसंधान परियोजनाओं की अनदेखी करते हैं।
  10. अनुसंधान प्रभाव (एच-इंडेक्स) पर, भारत ने चीन के 2. के मुकाबले 12.6 स्कोर किया । हम कम प्रकाशन कम करते हैं और प्रभाव उससे भी कम होता है।

इसके साथ-साथ हमारे यहां यह भी है:

  • सीएसआईआर में अनुसंधान करने वाले साथियों को कम से कम 4 महीने से और कई मामलों में, नौ महीनों से भी वेतन भुगतान नहीं किया गया है।
  • आईसीएमआर एक बायोटेक कंपनी को धमकी दे रहा है कि वैक्सीन का विकास करो या दंडात्मक कार्रवाई के लिए तैयार रहो।
  • मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ‘ड्रग डिस्कवरी हैकाथन’ का आयोजन कर रहा है ताकि कोविड-19 से लड़ने का आईडिया मिले। दूसरी ओर, सीएसआईआर को प्रयोगशाला में इनका परीक्षण करने का काम दिया गया है ।
  • पतंजलि ने कोविड को ठीक करने का दावा करने वाली एक अपरीक्षित दवा को बाजार में उतारने की कोशिश कर संपूर्ण आयुर्वेद को बदनाम किया और वे अभी भी नपेस्टेड कोविद इलाज को धक्का दिया जो पूरे आयुर्वेद को खराब करता है और कंपनी का कुछ नहीं बिगड़ा।
  • एक विश्लेषण के अनुसार, भारत में 352 का शैक्षणिक स्वतंत्रता सूचकांक है जो सऊदी अरब और लीबिया के स्कोर की तुलना में है। भारत से अधिक स्कोर करने वाले देशों में शामिल हैं पाकिस्तान (0.554), ब्राजील (0.466), यूक्रेन (0.422), भारत (0.436) और मलेशिया (0.582) । उरुग्वे और पुर्तगाल 0.971 के स्कोर के साथ सूची में शीर्ष पर हैं । इसके तुरंत पीछे लैटविया और जर्मनी हैं। सबसे नीचे उत्तर कोरिया हैं (0.011)

अल्पकालिक सोच के साथ हमारे पास नीति निर्माता और सरकारें हैं, दूसरों को आगे बढ़ाने और पैसे बनाने में सहायता करने तथा खुद गरीबी में रहने के लिए तैयार रहिए। दूसरों को अमीर होते देखते रहिए। विकास गतिशील होगा पर परिवर्तनकारी नहीं और हम सब अच्छे कर्मचारी, आज्ञाकारी नागरिक, देशभक्त भारतीय और धर्मनिष्ठ भक्त बने रहेंगे। अपनी सभी विफलताओं के लिए, सरकारें हमें धर्म और जाति का पाठ पढ़ाएंगी जबकि हमारे पास रोजगार नहीं है। भारत श्रमिक, कर्मचारी, उपभोक्ता का निर्माण करेगा जबकि चीन नियोक्ता, अन्वेषक और उद्यमियों का निर्माण करेगा और अंततः निवेश करेगा और हमें खरीद लेगा ।

इसका सामना करें। हम चीन के जैसे होने के लायक नहीं हैं। मंदिर बनाओ, मूर्ति लगाओ, बुलेट ट्रेन आयात करो, कुछ चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाओ और अच्छा महसूस करो।

( नोट : – Peri Maheshwer की पोस्ट का ये हिन्दी अनुवाद संजय  कुमार सिंह जी द्वारा किया गया है )

 

About Author

Sanjaya Kumar Singh