हैदराबाद – नगर निगम चुनाव को इतनी हाईप क्यों दी जा रही है ?

हैदराबाद – नगर निगम चुनाव को इतनी हाईप क्यों दी जा रही है ?

ग्रेटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कार्पोरेशन (GHMC) के चुनाव में भाजपा ने अपने स्टार नेता प्रचार में उतारे हुए हैं। दिलचस्प यह है कि जीएचएमसी में BJP ने पिछली बार सिर्फ चार सीट ही जीती थीं, जबकि TRS ने 99 और AIMIM ने 44 सीट जीतीं थीं। लेकिन इस बार भाजपा एंव मीडिया का गठजोड़ इस चुनाव […]

Read More
 नज़रिया – क्या अब आप धर्म देखकर ही पीड़ितों के लिए इंसाफ़ मांगेंगे ?

नज़रिया – क्या अब आप धर्म देखकर ही पीड़ितों के लिए इंसाफ़ मांगेंगे ?

आंध्र प्रदेश के शहर विशाखापट्टनम में एकतरफा प्यार में नाकाम एक लड़के ने भरे बाजार 17 साल की लड़की का गला काट डाला, जिस वक्त घटना को अंजाम दिया गया तब वहां काफी लोग थे,उसने तड़प तड़प कर वहीं दम तोड़ दिया, आरोपी लड़के को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी लड़के का नाम अनिल […]

Read More
 नज़रिया – सियासत और टीवी का गठजोड़ एक समुदाय के लिए ज़मीन तंग करने में भिड़ा हुआ है

नज़रिया – सियासत और टीवी का गठजोड़ एक समुदाय के लिए ज़मीन तंग करने में भिड़ा हुआ है

प्रशासनिक सेवाओं में मुसलमानों का प्रतिनिधित्व साढ़े तीन प्रतिशत ही है। कभी कभी यह आंकड़ा चार या साढ़े चार प्रतिशत तक पहुंचता है। लेकिन इसके बावजूद एक तथाकथित ‘भगवाधारी’ एंकर को इतनी मौजूदगी भी तकलीफ दे रही है। वह भारत के उस विश्विद्यालय की शिक्षा पर सवाल उठा रहा जिसने हाल ही में देश की […]

Read More
 तबलीगी जमात के नाम से ज़हर फ़ैलाने वालों पर कार्यवाही कौन करेगा ?

तबलीगी जमात के नाम से ज़हर फ़ैलाने वालों पर कार्यवाही कौन करेगा ?

कोरोना काल में बॉम्बे हाईकोर्ट ने तब्लीग़ी जमात के विदेशी सदस्यों को ‘राहत’ दे दी है. कोर्ट का मानना है कि सरकार ने जमातियों को बलि का बकरा बनाया। न्यूज़ चैनलों और प्रिंट मीडिया ने प्रोपेगेंडा चलाकर उन्हें बदनाम किया और संक्रमण फैलने का ज़िम्मेदार बताया। उस पर पश्चाचाताप करने और क्षतिपूर्ति के लिए पॉजिटिव […]

Read More
 नज़रिया – नफ़रत सबको बर्बाद कर रही है

नज़रिया – नफ़रत सबको बर्बाद कर रही है

मध्यप्रदेश के इंदौर में आज (14 अप्रैल ) को  दो घटनाएं सामने आई हैं। पहली घटना उस दुकानदार से जुड़ी है, जिसने मुसलमानों को सब्जी बेचने से साफ इनकार कर दिया। जब मुसलमान उस दुकानदार की मरी हुई मानवता को जिंदा करने की कोशिश कर रहे थे, तो उसने साफ कह दिया कि हमें ‘ऊपर’ […]

Read More
 क्या भारतीय मीडिया ठहराने और छुपाने के बीच का फ़र्क नही जानता?

क्या भारतीय मीडिया ठहराने और छुपाने के बीच का फ़र्क नही जानता?

मेरठ जनपद के मवाना क़स्बा मे मस्जिद मे ठहरी तब्लीग़ी जमाअत को मीडिया ट्रायल ने इस तरह से पेश किया जैसे यह कोई असामान्य घटना घट गई हो और यह तब्लीग़ी जमाअत, जमाअत न होकर कोई गैंग या गिरोह हो। सबसे पहले यह समझ लें कि तब्लीग़ी जमाअत है क्या ? तब्लीग़ी जमाअत एक ऐसी […]

Read More
 क्या मुस्लिमों के प्रति नफ़रत का ज़हर बो रहा है “ज़ी न्यूज़” ?

क्या मुस्लिमों के प्रति नफ़रत का ज़हर बो रहा है “ज़ी न्यूज़” ?

जिस वक़्त पूरी दुनिया कोरोना वायरस के ख़तरे से बचने के लिये नए नए उपाय तलाश रही थी, उस वक़्त भारतीय मीडिया का एक धड़ा मुस्लिम दुश्मनी में अंधा होकर अपने ही देश के नागरिकों के खिलाफ नफरत फैलाने में व्यस्त था। सुधीर चौधरी नाम का बौद्धिक आतंकवादी एक वर्ग विशेष को मुसलमानों और सेक्यूलरों […]

Read More
 नज़रिया – आप लोग कौन होते हो समाज की ठेकेदारी करने वाले?

नज़रिया – आप लोग कौन होते हो समाज की ठेकेदारी करने वाले?

कई रोज़ से सोशल मीडिया पर कुछ मुस्लिम युवा इस ग़म में पतले हुए जा रहे हैं कि हिन्दू जागरण मंच के नेता मुस्लिम लड़कियों का धर्मपरिवर्तन करा रहे हैं। उनकी चिंता वैसे ही नहीं है दरअस्ल हिन्दू जागरण मंच ने ऐलान किया था कि जो भी हिन्दू लड़का मुस्लिम लड़की से शादी करेगा उसे […]

Read More
 उमा भारती जी ! गंगापुत्र स्वामी सानंद की मौत का ज़िम्मेदार कौन है ?

उमा भारती जी ! गंगापुत्र स्वामी सानंद की मौत का ज़िम्मेदार कौन है ?

दो ख़बरें हमारे सामने हैं पहली खबर जी. डी अग्रवाल उर्फ प्रोफेसर सानंद की है, प्रोफेसर अग्रवाल आई.आई.टी कानपुर में सिविल इंजीनियरिंग और पर्यावरण विभाग में प्राध्यापक थे। उन्होंने बीड़ा उठाया था कि वे बद से बदतर होती जा रही गंगा की सफाई कराने के लिये सरकार को मजबूर कर देंगे। प्रोफेसर सानंद ने गंगा […]

Read More
 नज़रिया – ये नाम बदलने वाली राजनीति दकियानूसी और सांप्रदायिक कुंठा का प्रतीक है

नज़रिया – ये नाम बदलने वाली राजनीति दकियानूसी और सांप्रदायिक कुंठा का प्रतीक है

सावरकर ने अंग्रेज़ों को माफीनामा लिखा, आपने उन्हें ‘वीर’ माना और सावरकर के नाम के साथ वीर सावरकर लिख दिया, किसी ने रोका क्या? पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने देश में सांप्रदायिक बीज बोने में महत्तवपूर्ण योगदान दिया, आपने उन्हें अपना आदर्श माना किसी ने रोका क्या? आपने दीन दयाल उपाध्याय के नाम मुग़ल सराय रेलवे […]

Read More