2018 – और ये साल कुछ इस तरह बीत गया

2018 – और ये साल कुछ इस तरह बीत गया

नया साल मुबारक हो ये कहना आसान है, साल का हिस्सा निकाल कर देखो ये साल भी वैसा ही गया जैसे हर साल बीता है, राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक और आर्थिक हर पहलू में कोई न कोई कहानी छुपी है. इस साल फिर से नजीब नही मिला उसकी माँ ने दर- बदर की ठोकर खाई मगर […]

Read More
 सवाल करना पत्रकार का अधिकार होना चाहिए

सवाल करना पत्रकार का अधिकार होना चाहिए

20 जुलाई को दिल्ली विश्वविद्यालय के भीमराव अंबेडकर महाविद्यालय में हिंदी और हिंदी पत्रकारिता विभाग ने पुनश्चर्या कार्यक्रम का आयोजन किया. जिसमे श्री.के.जी. / सुरेश (डी.जी.आई.आई.एम),श्री संजय नंदन, वरिष्ठ पत्रकार (ए ,बी.पी.न्यूज़), प्रो.सुधा सिंह (दिल्ली विश्वविद्यालय ), श्री दीपांशु श्रीवास्तव ,अध्यक्ष (प्रबंध समिति) को बतौर मुख्यातिथि आमंत्रित किया गया. कार्यक्रम का आरम्भ द्वीप उज्जवलन और […]

Read More
 माँ बनने के बाद छुआ बुलंदियों का आसमान

माँ बनने के बाद छुआ बुलंदियों का आसमान

“माँ ” नाम का शब्द केवल एक शब्द ही नहीं इसमें पूरी दुनिया समा जाती है. हर किसी की जिंदगी में अगर सबसे महत्वपूर्ण इंसान है, तो वो उसकी माँ है क्योंकि उसकी मां से करीब कोई नहीं होता है जो अपने बच्चों को गर्भ से लेकर मृत तक बिना किसी लालच के प्यार करती […]

Read More
 आखिर कब सुरक्षित होंगी बेटियां, कब रुकेंगी रेप की घटनाएं?

आखिर कब सुरक्षित होंगी बेटियां, कब रुकेंगी रेप की घटनाएं?

6 दिन हो गये , मगर देश की एक बेटी के हत्यारों  को  हमारी सरकार और पुलिस दोनों ढूंढ़ने में अभी तक नाकाम है. ‘संस्कृति राय’ देश की 20 साल की बेटी फिर दरिंदो के हाथों मार दी गई. और देश की सरकार अभी तक चुप बैठी है. 6 दिन के अंदर तो हथियारों को […]

Read More
 निष्पक्ष होने की ज़रूरत है

निष्पक्ष होने की ज़रूरत है

हमारे देश में लगातार बलात्कार की घटनाये बढ़ती जा रही है. सबसे ज़्यादा दुःख की बात ये है कि छोटी मासूम बच्चियों के साथ ऐसी हैवानियत की जा रही है. अगर हम अपने देश को इस अपराध में देखे तो देश मे बालात्कार चौथे नम्बर पर आता है. यानी देश मे पैदा होने वाली लड़की […]

Read More
 जाति के कारण बारिश से बचने के लिए छत नहीं मिली थी डॉ आंबेडकर को

जाति के कारण बारिश से बचने के लिए छत नहीं मिली थी डॉ आंबेडकर को

स्वतंत्र भारत के संविधान निर्माता, दलितों के मसीहा व समाज सुधारक डॉ भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू इंदौर मध्यप्रदेश में पैदा हुए थे। जिस जाति में बाबा साहब का जन्म हुआ था वो जाति बहुत निम्न और हेय समझी जाती थी. उनके पिता रामजी मौला जी सैनिक स्कूल में प्रधानाध्यापक थे। […]

Read More
 सवाल ये है, कि 11 वर्ष का बच्चा खुद फांसी पर क्यों चढ़ गया ?

सवाल ये है, कि 11 वर्ष का बच्चा खुद फांसी पर क्यों चढ़ गया ?

ज़िला बुलंदशहर के गाँव गेसुपुर मे 11 वर्षीय छात्र का शव शुक्रवार की शाम को आम के बाग में पेड़ पर लटका मिला.सुबह से लापता रिहान की लाश को पेड़ पर लटके देखकर परिजन सन रह गये. पूरे गांव में कोहराम मच गया उसी बीच पुलिस घटनास्थल पर पहुच गई .और शव को पोस्टमार्टम के […]

Read More
 जजों की प्रेस कांफ्रेंस के बाद आप क्या सोचते हैं ?

जजों की प्रेस कांफ्रेंस के बाद आप क्या सोचते हैं ?

देश को आज़ाद हुये 70 साल हो गए हैं, पर आज से भारत के इतिहास में 12 जनवरी 2018 के दिन खास हो गया है। ये भारत में पहली बार हुआ है, जँहा देश की सर्वोच्च अदालत के चार वरिष्ठ जजों में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। जहाँ पर जजों ने न्यायपालिका में बढ़ रहे भ्रष्टाचार और […]

Read More
 अहद तमीमी को क्यों नहीं मिल रहा मलाला जैसा समर्थन ?

अहद तमीमी को क्यों नहीं मिल रहा मलाला जैसा समर्थन ?

इज़राइल और फलस्तीन की दुश्मनी तो जग ज़ाहिर ही है। मगर पिछले कुछ दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है, जिसमे फलस्तीन की 16 वर्षीय किशोरी अहद तमिमी इज़राइली सैनिक को थप्पड़ मार रही है। इस वीडियो में वह इज़राइली सैनिक को ललकार रही है। औज़ारों से लेस सैनिक पर तमिमी […]

Read More
 राजनीतिक गलियारों में कैसा रहा 2017 ?

राजनीतिक गलियारों में कैसा रहा 2017 ?

2017 भी ख़त्म हुआ,लेकिन अपने साथ सभी के लिये ये साल कुछ न कुछ सवाल छोड़कर जा रहा है.तो कुछ के लिए ये साल बेमिसाल रहा तो किसी के लिये उत्तर चढ़ाव का रहा. राजनीति के गलियारों से लेकर आम जन जीवन के लिए ये साल विवादस्पद और चुनौतीपूर्ण रहा.इस साल ने किसी की ज़िंदगी […]

Read More