सफ़ाई का गांधीवादी तरीका

सफ़ाई का गांधीवादी तरीका

सफाई की बड़ी समस्या है और इसमें जाति एक बड़ा कारण है कि फलानी जाति वाला ही सफाई करेगा परन्तु यह बड़ा पेचीदा मामला है. इन दिनों बैंगलोर में हूँ और कल जब एक संस्था के शौचालय में गया तो एक लिस्ट देखी जिसमे कार्यालय के सभी पुरुष कर्मियों के नाम लिखे हुए थे और […]

Read More
 अपने ही देश की तल्ख़ सच्चाई से रूबरू कराता ये सफ़र

अपने ही देश की तल्ख़ सच्चाई से रूबरू कराता ये सफ़र

दोपहर हो चली है और उमरिया स्टेशन पर उतर कर हम जेनिथ के दफ्तर पहुंचे है. यहाँ साथी बिरेन्द्र इंतज़ार कर रहे है और हम नहाकर और थोड़ा सा नाश्ता करके गाँव की ओर निकल पड़ते है. रास्ते में बिरेन्द्र ने बताया कि अभी तक हम लोग नौ गाँव तक पहुंच चुके है. काफी सीख […]

Read More
 मध्यप्रदेश में वन कानून का दुरूपयोग, गरीब को किया अपनी ज़मीन से बेदखल

मध्यप्रदेश में वन कानून का दुरूपयोग, गरीब को किया अपनी ज़मीन से बेदखल

दस्तक न्याय यात्रा में वन कानून के जरिए कैसे गरीब लोगों को जमीन से बेदखल किया जा रहा है, मालूम पड़ रहा है। उमरिया में जेनिथ यूथ फाउंडेशन और विकास संवाद के सहयोग से निकल रही यात्रा में आज कहानी भोदल सिंह जी की । भोदल सिंह पिता फिरतु सिंह , ग्राम जुनवानी , जिला […]

Read More
 कुपोषित बच्चों को सही देखभाल एवं मार्गदर्शन की ज़रूरत

कुपोषित बच्चों को सही देखभाल एवं मार्गदर्शन की ज़रूरत

कल उज्जैन में एक एनजीओ द्वारा संचालित होस्टल में दो छात्रों की सांप काटने से मृत्यु हो गई और शासन ने जिला प्रशासन के सी ई ओ को आदेशित किया है कि जांच करें. खबरों के अनुसार बच्चे जो सौ की संख्या में है उन्हें बेहद गलीज हालात में रखा जाता है और नीचे सुलाया […]

Read More
 म.प्र. मे गिरता शिक्षा का स्तर और कुंभकरण बना शिक्षा विभाग

म.प्र. मे गिरता शिक्षा का स्तर और कुंभकरण बना शिक्षा विभाग

एनडीटीवी पर प्राइम टाइम पर मप्र के शाजापुर और आगर जिले में प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा की पोस्टमार्टम परक रपट देखकर बहुत दुख हुआ। प्रदेश में मैंने 1990 से 1998 तक बहुत सघन रूप से राजीव गांधी शिक्षा मिशन के साथ काम करके पाठ्यक्रम, पुस्तकें लिखना, शिक्षक प्रशिक्षण और क्षमता वृद्धि का कठिन काम किया […]

Read More
 मध्यप्रदेश में ब्यूरोक्रेसी की आत्म मुग्धता चरम पर है

मध्यप्रदेश में ब्यूरोक्रेसी की आत्म मुग्धता चरम पर है

मप्र में ब्यूरोक्रेसी की आत्म मुग्धता चरम पर है और इसमे वे अपने को, अपने काम को और अपनी छबि को चमकाने के लिए किसी भी हद तक जाकर काम कर रहे है इसके विपरीत वे अपने मातहतों के साथ बहुत बुरा व्यवहार भी कर रहे है. यह बात इन दो उदाहरणों से समझी जा […]

Read More
 नर्मदा सेवा या राजनैतिक अवसरवादिता

नर्मदा सेवा या राजनैतिक अवसरवादिता

मप्र में शिवराज सरकार की नर्मदा यात्रा इन दिनों खासी चर्चा में है जिसका समापन कल 15 मई को नरेंद्र मोदी अमरकंटक में करेंगे. राज्य की जीवन रेखा कही जाने वाले नर्मदा नदी एकाएक चर्चा में आ गई जब शिवराज सरकार ने इस नदी के अवैध रेत खनन पर कार्यवाही करने के बजाय एक यात्रा […]

Read More