एक जेल अधिकारी ने भगत सिंह की फांसी के बाद उन्हे पहचानने से इनकार कर दिया था

एक जेल अधिकारी ने भगत सिंह की फांसी के बाद उन्हे पहचानने से इनकार कर दिया था

फांसी से ठीक पहले भगत सिंह के वकील प्राण नाथ मेहता उनसे मिलने पहुंचे, भगत सिंह ने मुस्कराते हुए स्वागत किया और पूछा, आप मेरी किताब ‘रिवॉल्युशनरी लेनिन’ लाए हैं? मेहता ने उन्हें किताब थमा दी और वे तुरंत पढ़ने लगे। मेहता ने पूछा कि क्या आप देश को कोई संदेश देना चाहेंगे? भगत सिंह […]

Read More
 दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में शाहीन बाग़ की बिलक़ीस दादी

दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में शाहीन बाग़ की बिलक़ीस दादी

शाहीन बाग की दादी ने टाइम मैगजीन में जगह बनाई है, वे दुनिया के सौ प्रभावशाली (100 influential people of world ) लोगों की सूची में शामिल हुई हैं। जनता के ताकत की यही सुंदरता है कि वह हारकर भी जीत जाती है, दादी जिस कानून के खिलाफ धरने पर बैठी थीं, वह अभी बना […]

Read More
 GDP -23.9 , आज़ादी के बाद सबसे बुरे दौर में पहुंची अर्थव्यवस्था

GDP -23.9 , आज़ादी के बाद सबसे बुरे दौर में पहुंची अर्थव्यवस्था

झूठ की आंधी आती है, तो सच चाहे तनकर खड़ा हो, दिखाई नहीं ​देता। झूठ का हाहाकार सच को छुपा देता है, लेकिन झूठ की सबसे बड़ी कमजोरी है कि वह ज्यादा दिन तक टिकता नहीं, सच की ताकत है कि वह फीनिक्स की तरह राख के ढेर से बाहर आ जाता है। जीडीपी के […]

Read More
 भूख से बच्ची की हुई मौत, अधिकारियों ने कहा बुखार है वजह

भूख से बच्ची की हुई मौत, अधिकारियों ने कहा बुखार है वजह

नेहरू की आलोचना का वह अध्याय बड़ा चर्चित है जब लोहिया ने संसद में कहा था कि एक तरफ देश के गरीब आदमी की प्रतिदिन की आय तीन आना है, वहीं प्रधानमंत्री का दैनिक खर्च पच्चीस हजार रुपये है। क्या आज का हाल उससे अलग है? देश को जानना चाहिए कि जब देश के प्रधानमंत्री […]

Read More
 शिवराज पाटिल का सूट बनाम मोदी का मोर

शिवराज पाटिल का सूट बनाम मोदी का मोर

फर्ज कीजिए कि आप घर के मुखिया हैं और परिवार में कुछ लोग ​बीमारी से, इलाज के अभाव में, या अनियंत्रित परिस्थिति में खत्म हो गए. क्या इस दौरान आप अपने प्रकृति प्रेम का प्रदर्शन करने वाले वीडियो और फोटो अपलोड करेंगे? मेरे ख्याल से देश का प्रधानमंत्री देश का मुखिया है और कोरोना से […]

Read More
 इन बुद्धिजीवियों की मौत पर सुशांत केस की तरह हल्ला क्यों नहीं मचा ?

इन बुद्धिजीवियों की मौत पर सुशांत केस की तरह हल्ला क्यों नहीं मचा ?

बड़े-बड़े बुद्धिजीवियों की हत्या पर सुशांत केस की तरह देश में हल्ला क्यों नहीं मचा? अगर क्राइम टीआरपी लाता है तो वे चारों केस टीआरपी भी दे सकते थे और रोमांचित करने वाले रहस्य भी, उसमें कोई संदेह भी नहीं था. उन सभी को गोली मार कर हत्या की गई। अंधविश्वास के खिलाफ समाज को […]

Read More
 प्रशांत भूषण पर आपकी जो भी राय हो, पर आपको ये पढ़ना चाहिए !

प्रशांत भूषण पर आपकी जो भी राय हो, पर आपको ये पढ़ना चाहिए !

मुझे हैरानी इस बात की नहीं है कि सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को अवमानना दोषी माना, हैरानी इस बात की है कि हमारे समाज ने प्रशांत जैसे लोगों को कभी नहीं पहचाना। एक पीआईएल वॉरियर, एक चर्चित वकील, एक ईमानदार आदमी, कानून में भरोसा रखने वाला और कानून के जरिये सुधारों का रास्ता तलाशता […]

Read More
 यूपी में कोरोना ड्यूटी कर रहे इंटर्न डॉक्टरों को दिहाड़ी मजदूरों से भी कम मिल रहा है मेहनताना

यूपी में कोरोना ड्यूटी कर रहे इंटर्न डॉक्टरों को दिहाड़ी मजदूरों से भी कम मिल रहा है मेहनताना

उत्तर प्रदेश में इंटर्न डॉक्टरों को दिहाड़ी मजदूरों से भी कम मेहनताना मिल रहा है। हर रोज 10 से 12 घंटे, कभी कभी 16 घंटे की इमरजेंसी ड्यूटी और हर रोज का स्टाइपेंड महज 250 रुपये। यूपी में इंटर्नशिप करने वाले डॉक्टरों को महीने का मात्र 7500 रुपये दिया जाता है, जो देश में सबसे […]

Read More
 सरकार ने भगोड़ों का 68,607 करोड़ रुपये का कर्ज माफ कर दिया है

सरकार ने भगोड़ों का 68,607 करोड़ रुपये का कर्ज माफ कर दिया है

रिजर्व बैंक ने एक आरटीआई के जवाब में बताया है कि उसने शीर्ष 50 विलफुल डिफॉल्टर्स के 68,607 करोड़ की राशि बट्टा खाते में डाल दी है. इनमें मोदी जी के ‘मेहुल भाई’ का भी नाम है। मेहुल चौकसी वही कारोबारी हैं जो बैंक लूटने और प्रधानमंत्री से नजदीकी की वजह से मशहूर हुए थे, […]

Read More
 ‘बस एक मुट्ठी चावल खाया है। दूध नहीं उतर रहा है, बेटी को कैसे पिलाऊं..

‘बस एक मुट्ठी चावल खाया है। दूध नहीं उतर रहा है, बेटी को कैसे पिलाऊं..

‘बस एक मुट्ठी चावल खाया है। दूध नहीं उतर रहा है, बेटी को कैसे पिलाऊं… पानी पीकर गुजारा कर रहे हैं।’ दिल्ली की महक आठ दिन पहले मां बनी हैं। महक और उनके पति गोपाल नैनीताल के रहने वाले हैं। उनके पास पैसे नहीं हैं, वे अस्पताल भी नहीं जा सके। वे दिल्ली में मजदूरी […]

Read More